श्रीलंका सरकार 39 देश के आगमन पर वीजा और मुफ्त वीजा कार्यक्रम को बहाल करेगा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 11 2019 10:12AM
श्रीलंका सरकार 39 देश के आगमन पर वीजा और मुफ्त वीजा कार्यक्रम को बहाल करेगा
Image Source: Google

श्रीलंका सरकार की योजना ‘‘आगमन पर वीजा’’ और ‘‘मुफ्त वीजा’’ कार्यक्रम एक अगस्त से 39 देशों के लिए बहाल करने की है। इसी साल ईस्टर के दिन हुए बम विस्फोटों के बाद इन कार्यक्रमों को निलंबित कर दिया गया था। हालांकि, मीडिया में आई एक खबर के मुताबिक भारत और चीन को इन देशों में शामिल नहीं किया गया है।

कोलंबो। श्रीलंका सरकार की योजना ‘‘आगमन पर वीजा’’ और ‘‘मुफ्त वीजा’’ कार्यक्रम एक अगस्त से 39 देशों के लिए बहाल करने की है। इसी साल ईस्टर के दिन हुए बम विस्फोटों के बाद इन कार्यक्रमों को निलंबित कर दिया गया था। हालांकि, मीडिया में आई एक खबर के मुताबिक भारत और चीन को इन देशों में शामिल नहीं किया गया है। गौरतलब है कि श्रीलंका ने 21 अप्रैल को हुए आत्मघाती हमले के बाद 39 देशों के नागरिकों को आगमन पर वीजा देने की अपनी योजना 25 अप्रैल को निलंबित कर दी थी। इन विस्फोटों में 258 लोग मारे गए थे। 

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका में ईस्टर धमाकों की जांच कर रही कमेटी ने राष्ट्रपति सिरिसेना को सौंपी रिपोर्ट

आगमन पर वीजा कार्यक्रम मई से अक्टूबर तक के छह महीने के दौरान देश में पर्यटकों का आगमन बढ़ाने की कवायद का हिस्सा है। दरअसल, इस अवधि में पर्यटकों का आगमन कम रहता है। डेली मिरर की खबर के मुताबिक पर्यटन विकास मंत्री जॉन अमरतुंगा ने मंगलवार को कहा कि उनका मंत्रालय आव्रजन एवं प्रवास विभाग के साथ संयुक्त रूप से एक प्रस्ताव पर काम कर रहा है, जिसका उद्देश्य मुफ्त वीजा और आगमन पर वीजा कार्यक्रम को बहाल करने के लिए कैबिनेट की मंजूरी प्राप्त करना है। उन्होंने इस बात का जिक्र किया कि यह कार्यक्रम छह महीने के लिए परीक्षण आधार पर लागू किया जाएगा। हालांकि, इसमें भारत और चीन शामिल नहीं किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम को परीक्षण की सफलता के आधार पर भविष्य में इन दोनों देशों के लिए भी विस्तारित किया जाएगा। श्रीलंका में 2019 के प्रथम तीन महीने में 7,40,600 विदेशी पर्यटक आए।पिछले साल 4,50,000 भारतीय नागरिकों ने श्रीलंका की यात्रा की थी।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story