श्रीलंका के सैनिकों को देखते ही गोली मारने का आदेश जारी, लूटपाट-दंगों के बाद मंत्रालय ने लिया फैसला

श्रीलंका के सैनिकों को देखते ही गोली मारने का आदेश जारी, लूटपाट-दंगों के बाद मंत्रालय ने लिया फैसला
Google common license

मंगलवार को प्रदर्शनकारियों ने सत्तारूढ़ पार्टी के राजनेताओं के घरों में आग लगा दिया था। मंत्रालय ने कहा, "सुरक्षा बलों को आदेश दिया गया है कि सार्वजनिक संपत्ति को लूटने या जीवन को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को देखते ही गोली मार दी जाए।"

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक श्रीलंकाई रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को सैनिकों को लूटपाट या संपत्ति को नुकसान पहुंचाने में शामिल लोगों को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया है। बता दें कि मंगलवार को प्रदर्शनकारियों ने सत्तारूढ़ पार्टी के राजनेताओं के घरों में आग लगा दिया था। मंत्रालय ने कहा, "सुरक्षा बलों को आदेश दिया गया है कि सार्वजनिक संपत्ति को लूटने या जीवन को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को देखते ही गोली मार दी जाए।"

इसे भी पढ़ें: एलन मस्क देंगे डोनाल्ड ट्रंप को बड़ा तोहफा, Twitter से हटने वाला है बैन

डेली मिरर अखबार ने सेना के एक प्रवक्ता के हवाले से कहा कि मंत्रालय ने सार्वजनिक संपत्ति को लूटने या दूसरों को नुकसान पहुंचाने वाले लोगों पर तीनों बलों को गोलियां चलाने का आदेश दिया है। इससे पहले दिन में, संकटग्रस्त राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने सेना और पुलिस को आपातकालीन शक्तियां सौंप दीं, जिससे बलों को बिना वारंट के लोगों को हिरासत में लेने की अनुमति मिल गई है। स्वतंत्रता के बाद से सबसे खराब आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में भारी प्रदर्शन हो रहे है जिसमें अब तक आठ लोग मारे गए हैं और 200 से अधिक घायल हुए हैं। इससे पहले गोटबाया राजपक्षे ने लोगों से "हिंसा और बदले की कार्रवाई" को रोकने का आग्रह किया था।

इसे भी पढ़ें: नवाज शरीफ से मिलने लंदन जाएंगे पाकिस्तान के पीएम शहबाज शरीफ, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

राजपक्षे सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन सोमवार को उस समय तेज हो गया जब सरकारी समर्थकों ने प्रदर्शनकारियों को लकड़ी और लोहे के डंडों से पीटा। अधिकारियों ने देश के कई हिस्सों में तेजी से सशस्त्र सैनिकों को तैनात किया और बुधवार तक कर्फ्यू लगा दिया गया। देशव्यापी विरोध के बीच प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने अपना इस्तीफा दे दिया था। सबसे खराब आर्थिक संकट के बीच बढ़ते गुस्से के बीच सत्तारूढ़ राजपक्षे परिवार के पुश्तैनी घर को भीड़ द्वारा जलाए जाने के बाद पूरे द्वीप राष्ट्र में कर्फ्यू लागू है। प्रदर्शनकारियों ने कोलंबो के मध्य में श्रीलंकाई प्रधानमंत्री के घर के रूप में कार्य करने वाली दो मंजिला औपनिवेशिक युग की इमारत टेंपल ट्रीज के गेटों को भी तोड़ने का प्रयास किया था।