चीनी साजिश का शिकार हुआ ताइवानी ऑफिसर? होटल में मृत मिला मिसाइल बनाने वाला अधिकारी #ChinaTaiwanClash

ChinaTaiwanClash
Prabhasakshi
रेनू तिवारी । Aug 06, 2022 12:44PM
आधिकारिक केंद्रीय समाचार एजेंसी (सीएनए) के अनुसार ताइवान रक्षा मंत्रालय की अनुसंधान और विकास इकाई के उप प्रमुख ओ यांग ली-हिंग शनिवार की सुबह दक्षिणी ताइवान के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए। सीएनए के मुताबिक अधिकारी उनकी मौत के कारणों की जांच कर रहे हैं।

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा से चीन पूरी तरह से बौखलाया हुआ है। ऐसे में वह अपना गुस्सा ताइवान पर निकाल रहा हैं। ताइवान की सीमा के पास चीन से युद्धाभ्यास शुरूकर दिए हैं। अब खबरें आ रही हैं कि वह जमीनी स्तर पर ताइवान को चोट पहुंचा रहा है। आधिकारिक केंद्रीय समाचार एजेंसी (सीएनए) के अनुसार ताइवान रक्षा मंत्रालय की अनुसंधान और विकास इकाई के उप प्रमुख ओ यांग ली-हिंग शनिवार की सुबह दक्षिणी ताइवान के एक होटल के कमरे में मृत पाए गए। सीएनए के मुताबिक अधिकारी उनकी मौत के कारणों की जांच कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: उद्धव ने संभाली सामना की कमान, शिंदे गुट पर किया करारा वार, जल्दबाजी में हनीमून मनाया, लेकिन शादी करना भूल गए

सीएनए ने कहा कि ओ यांग ने विभिन्न मिसाइल उत्पादन परियोजनाओं की निगरानी के लिए इस साल की शुरुआत में सैन्य स्वामित्व वाले राष्ट्रीय चुंग-शान विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान के उप प्रमुख के रूप में अपना पद ग्रहण किया था और एक व्यावसायिक यात्रा पर थे। उनकी मौत अमेरिकी हाउस स्पीकर नैन्सी पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद चीन और ताइवान के बीच तनाव के बीच हुई है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा सांसद रीति पाठक ने आखिर क्यों पहनी काली साड़ी ? अब जवाब देते-देते हो गईं परेशान

चीन और ताइवान के बीच तनाव

नैन्सी पेलोसी की ताइवान यात्रा से पहले चीन की ओर से कड़ी चेतावनी दी गई थी कि वह "अपनी राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की दृढ़ता से रक्षा करने के लिए दृढ़ और सशक्त उपाय करेगा।" 2 अगस्त को उनके आगमन के साथ, यूएस हाउस स्पीकर 25 से अधिक वर्षों में ताइवान का दौरा करने वाली सर्वोच्च रैंकिंग वाली निर्वाचित अमेरिकी अधिकारी बन गईं। पेलोसी के ताइवान पहुंचने से पहले ही उसकी सेना को चीन के साथ 'युद्ध की तैयारी' करने के लिए हाई अलर्ट पर रखा गया था। उनकी यात्रा के दिन ही चीनी युद्धपोत ताइवान तटरेखा की ओर बढ़ने लगे। चीन के विमानवाहक पोत शेडोंग (CV-17) ने सान्या के नौसैनिक अड्डे को छोड़ दिया और लियाओनिंग-001 ने भी क़िंगदाओ में घरेलू अड्डे से लंगर उठाया।

उनकी यात्रा के एक दिन बाद ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने बताया कि 27 चीनी लड़ाकू विमानों ने उसके वायु रक्षा क्षेत्र में प्रवेश किया। चीनी बेड़े में छह J-11 फाइटर जेट, पांच J-16 फाइटर जेट और 16 SU-30 फाइटर जेट शामिल थे। चीन ने कहा कि उसने ताइवान जलडमरूमध्य में "सटीक मिसाइल हमले" किए, जब चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने अपना "अब तक का सबसे बड़ा" सैन्य अभ्यास शुरू किया, जिसमें पानी में और ताइवान के द्वीप के आसपास के हवाई क्षेत्र में लाइव फायरिंग शामिल है।

अन्य न्यूज़