ट्रंप ने शरणार्थी मामलों के निपटान में बदलाव के आदेश दिए

trump-orders-change-in-disposal-of-refugee-cases
व्हाइट हाउस ने सोमवार रात एक बयान जारी कर यह जानकारी दी। यह घोषणा ऐसे समय में हुई है जब ट्रंप ने ट्विटर पर अमेरिकी आव्रजन कानूनों को लेकर आक्रोश जारी किया था जिन्हें वह “कमजोर, अप्रभावी एवं खतरनाक” करार देते हैं।

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने प्रशासन को शरण मांगने के अनुरोधों के लिए शुल्क लेने और ऐसे मामलों का निपटान 180 दिनों के भीतर करने के आदेश दिए हैं। व्हाइट हाउस ने सोमवार रात एक बयान जारी कर यह जानकारी दी। यह घोषणा ऐसे समय में हुई है जब ट्रंप ने ट्विटर पर अमेरिकी आव्रजन कानूनों को लेकर आक्रोश जारी किया था जिन्हें वह “कमजोर, अप्रभावी एवं खतरनाक” करार देते हैं।

इसे भी पढ़ें: उत्तर कोरिया के साथ बहुपक्षीय नहीं, अकेले बातचीत चाहते हैं ट्रंप: अमेरिकी अधिकारी

मेमो (में अन्य बदलावों को भी अंकित किया गया है जिनमें शरणार्थियों के कार्य अनमुति आवेदन दायर करने के लिए शुल्क लेना और अवैध तरीके से अमेरिका में प्रवेश करने वालों या प्रवेश की कोशिश करने वालों को राहत की मंजूरी मिलने से पहले अस्थायी कार्य अनुमतियां प्राप्त करने से रोकना आदि भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी उत्पादों पर भारत की ओर से लगाए गए ‘बड़े शुल्क’ पर ट्रंप ने की आलोचना

साथ ही इसमें अधिकारियों को उन आव्रजकों के वर्क परमिट को रद्द करने का निर्देश दिया गया है जिन्हें देश वापसी के अंतिम आदेश प्राप्त हो चुके हैं। अमेरिकी मीडिया की खबरों के मुताबिक यह आदेश अटॉर्नी जनरल बिल बार के उस निर्देश के दो हफ्ते बाद आया है जिसमें आव्रजन मामलों की सुनवाई करने वाले न्यायाधीशों से कहा गया था कि वे शरण मांगने वाले वैसे लोगों को जमानत न दें जिन्हें देश में अवैध तरीके से घुसने के लिए गिरफ्तार किया गया हो। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़