तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने UNGA में फिर उठाया कश्मीर मुद्दा, भारत-पाकिस्तान पर जमकर बोले

Erdogan
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 21, 2022 12:15PM
तुर्की के राष्ट्रपति ने शुक्रवार को उज्बेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद एक हफ्ते से भी कम समय में कश्मीर मुद्दा उठाया।

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा सत्र में अपने संबोधन के दौरान कश्मीर मुद्दा उठाया। एर्दोगन ने कहा कि भारत और पाकिस्तान अपनी आजादी के 75 साल बाद भी कश्मीर में शांति स्थापित नहीं कर पाए हैं। उच्च स्तरीय बैठक को संबोधित करते हुए तुर्की के राष्ट्रपति ने क्षेत्र में "स्थायी शांति" की आशा व्यक्त की। एर्दोगन ने यूएनजीए में कहा कि भारत और पाकिस्तान, 75 साल पहले अपनी संप्रभुता और स्वतंत्रता स्थापित करने के बाद भी अभी भी एक दूसरे के बीच शांति और एकजुटता स्थापित नहीं की है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। हम आशा और प्रार्थना करते हैं कि एक निष्पक्ष और स्थायी शांति और समृद्धि स्थापित हो। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर की खतमबंद कला के पूरी दुनिया में हैं दीवाने, जानिये इसमें क्या है खास?

तुर्की के राष्ट्रपति ने शुक्रवार को उज्बेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद एक हफ्ते से भी कम समय में कश्मीर मुद्दा उठाया। इस मुलाकात के दौरान पीएम मोदी और एर्दोगन ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की। 

इसे भी पढ़ें: LG मनोज सिन्हा ने कश्मीर के पहले मल्टीप्लेक्स का किया उद्घाटन, अनंतनाग, राजौरी, श्रीनगर में जल्द खुलेंगे सिनेमा हॉल, 23 साल पहले भी हुई थी ऐसी कोशिश

गौरतलब है कि तुर्की पाकिस्तान का करीबी सहयोगी है। एर्दोगन ने अपने पहले के यूएनजीए संबोधनों में कश्मीर मुद्दे का भी उल्लेख किया था। इसने नई दिल्ली और अंकारा के बीच संबंधों में तनाव पैदा किया। पिछले साल, एर्दोगन ने यूएनजीए की बैठक के दौरान कश्मीर पर अमेरिकी प्रस्तावों का उल्लेख किया था। विशेष रूप से, पाकिस्तान के बाद, तुर्की एकमात्र देश था जिसने 193 सदस्यीय यूएनजीए में कश्मीर को लाया था। 

अन्य न्यूज़