यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने पश्चिमी देशों को कहा कायर, लगाई मदद की गुहार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 28, 2022   17:29
यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने पश्चिमी देशों को कहा कायर, लगाई मदद की गुहार

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की ने मदद की गुहार लगाई है।जेलेंस्की ने यूक्रेन के मारियुपोल शहर की घेराबंदी की ओर इशारा करते हुए शनिवार तड़के एक वीडियो संबोधन में कहा, मैंने आज मारियुपोल के रक्षकों से बात की। मैं निरंतर उनके संपर्क में हूं।

ल्वीव। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की ने पश्चिमी देशों पर रविवार को कायरता का आरोप लगाया जबकि एक अन्य शीर्ष अधिकारी ने कहा कि रूस यूक्रेन के दो टुकड़े करना चाहता है जैसा उत्तर और दक्षिण कोरिया के साथ किया गया है। उधर रूसी सैनिकों के बढ़ते आक्रमण के बीच जेलेंस्की ने अपने देश की रक्षाके लिए लड़ाकू विमान और टैंक उपलब्ध कराने की हताशाभरी अपील की है। रूस ने अब कहा है कि उसका ध्यान पूर्वी डोनबास क्षेत्र पर है। वह जाहिर तौर पर अपने पहले के लक्ष्य से पीछे हटा है लेकिन इसने यूक्रेन के विभाजन की शंकाओं को बल दिया है।

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका का BOP संकट, आईएमएफ की जगह भारत से मदद, चीन को पछाड़कर द्वीप राष्ट्र के लिए शीर्ष आयात स्रोत बनने की दिशा में कदम

जेलेंस्की ने पोलैंड में शनिवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और यूक्रेन के अधिकारियों के बीच हुई बैठक के बाद पश्चिमी देशों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा पश्चिमी देश यूक्रेन को विमान और अन्य रक्षा उपकरण प्रदान करने के मामले में टालमटोल कर रहे हैं, दूसरी ओर रूसी मिसाइल हमलों में आम नागरिक फंसे हुए हैं और मारे जा रहे हैं। जेलेंस्की ने यूक्रेन के मारियुपोल शहर की घेराबंदी की ओर इशारा करते हुए शनिवार तड़के एक वीडियो संबोधन में कहा, मैंने आज मारियुपोल के रक्षकों से बात की। मैं निरंतर उनके संपर्क में हूं। उनका संकल्प, वीरता और दृढ़ता अचंभित करने वाली है। जो चंद विमान और टैंक प्रदान करने के बारे में 31 दिन से सोच रहे हैं, उनमें काश इसका एक प्रतिशत साहस भी होता। ज़ेलेंस्की ने रविवार को एक कानून पर हस्ताक्षर किए जो सेना और उपकरणों की ऐसी आवाजाही पर रिपोर्टिंग करने को प्रतिबंधित करता है जिसकी घोषणा या मंजूरी सेना ने नहीं दी है। कानून का उल्लंघन करने वाले पत्रकारों को तीन से आठ साल की जेल हो सकती है। कानून यूक्रेनी और विदेशी पत्रकारों के बीच अंतर नहीं करता है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि रूसी सैनिक यूक्रेन के बलों को घेरने की कोशिश कर रहे हैं जहां देश के पूर्वी हिस्से में दो क्षेत्र अलगाववादियों के कब्जे में हैं। इससे यूक्रेन के सैनिकों का संपर्क शेष देश से टूट जाएगा।

यूक्रेन के साथ बातचीत में, मॉस्को ने कीव से डोनेट्स्क और लुहान्स्क की स्वतंत्रता को स्वीकार करने की मांग की है। यूक्रेन के सैन्य खुफिया प्रमुख किरिलो बुडानोव का कहना है कि रूस, यूक्रेन को दो टुकड़ों में विभाजित करने का प्रयास कर सकता है। उनका संदर्भ उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच दशकों पुराने विभाजन से था। रक्षा मंत्रालय द्वारा रविवार को जारी एक बयान के अनुसार, बुडानोव ने कहा, ‘‘कब्जा जमाने वाले (रूस) कब्जे वाले क्षेत्रों को एक अर्ध-राज्य संरचना में तब्दील करने का प्रयास करेंगे और इसे स्वतंत्र यूक्रेन के खिलाफ खड़ा करेंगे।’’ बुडानोव ने आशंका व्यक्त की कि यूक्रेन का गुरिल्ला युद्ध रूस के प्रयासों को पटरी से उतार देगा। रूस के साथ वार्ता में शामिल यूक्रेन के एक प्रतिनिधि ने फेसबुक पर कहा कि दोनों देशों के प्रतिनिधियों की मुलाकात सोमवार तड़के तुर्की में होगी। हालांकि रूस ने ऐलान किया है कि वार्ता मंगलवार को शुरू होगी। दोनों पक्ष पहले बातचीत कर चुके हैं, लेकिन कोई समझौता नहीं हो सका है। जेलेंस्की ने रविवार को रूस के स्वतंत्र पत्रकारों से कहा कि उनकी सरकार तटस्थता घोषित करने और रूस को सुरक्षा गारंटी की पेशकश करने पर विचार करेगी। उन्होंने कहा कि इसमें यूक्रेन को परमाणु मुक्त राज्य बनाए रखना भी शामिल है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...