तिब्बत, हांगकांग और साइबर हैकिंग का जिक्र कर अमेरिका ने चीन को समझाया, ड्रैगन ने संबंधों को ठीक करने के लिए ये लिस्ट थमाया

तिब्बत, हांगकांग और साइबर हैकिंग का जिक्र कर अमेरिका ने चीन को समझाया, ड्रैगन ने संबंधों को ठीक करने के लिए ये लिस्ट थमाया

चीन ने अमेरिका पर तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि वह ‘दमनकारी नीति’ अपना रहा है और इसके साथ ही चीन की ओर ‘गलत नीतियों’ को रोकने के लिए अमेरिका को एक सूची थमायी। वहीं अमेरिका की ओर से साइबर हैकिंग, तिब्बत में मानवाधिकार उल्लंघन और हांगकांग में चीन के गैर लोकतांत्रिक तरीकों पर अपनी चिंता जताई।

अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमन और अमेरिकी विदेश मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ने चीन का दौरा किया। वेंडी शेरमन चीन के उप विदेश मंत्री तथा अमेरिका एवं चीन के संबंधों के प्रभारी शेई फेंग और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के साथ तियानजिन शहर के रिजॉर्ट में बंद कमरे में अलग-अलग की। वेंडी शरमन के बीच वार्ता तल्ख टिप्पणियों के साथ शुरू हुई। शीए फेंग ने अमेरिका पर तीखा हमला करते हुए आरोप लगाया कि वह ‘दमनकारी नीति’ अपना रहा है और इसके साथ ही चीन की ओर ‘गलत नीतियों’ को रोकने के लिए अमेरिका को एक सूची थमायी। वहीं अमेरिका की ओर से शिनजियांग प्रांत में अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के खिलाफ अत्‍याचार का मुद्दा उठाने के साथ-साथ, साइबर हैकिंग, तिब्बत में मानवाधिकार उल्लंघन और हांगकांग में चीन के गैर लोकतांत्रिक तरीकों पर अपनी चिंता जताई। 

इसे भी पढ़ें: जिनपिंग ने खुद को सत्ता के केंद्र में रख पार्टी को ही पीछे धकेल दिया, पूर्व CPC की नेता का दावा- करोड़ों सदस्यों की हैसियत गुलामों जैसी

चीन ने अमेरिका की नीति को खतरनाक बताया 

चीन ने अमेरिका पर द्विपक्षीय संबंधों में गतिरोध पैदा करने का आरोप लगाया है। साथ ही अमेरिका ने अपनी नीति बदलने की अपील भी की है। चीन-अमेरिका संबंधों का प्रभार संभालने वाले उप विदेश मंत्री झी फेंग ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन पर चीन के विकास को रोकने और दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है। चीन ने कहा कि दुनिया में उसे बदनाम करने की साजिश बंद होनी चाहिए। चीन की ओर से कहा गया कि अमेरिका हमें दैत्य बताना बंद करे। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने बीजिंग में बताया कि इस सूची में चीनी अधिकारियों और उनके परिवारों पर लगी पाबंदी को खत्म करने, हुवावे की अधिकारी मेंग वानझोऊ को प्रत्यर्पित करने के लिए कनाडा से न्यायिक अनुरोध वापस लेने की मांग भी शामिल थी। मेंग को पूर्ववर्ती डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन द्वारा जारी बैंक धोखाधड़ी वारंट पर 2018 में कनाडा के वेंकुवर में गिरफ्तार किया गया था। चीनी छात्रों और कंपनियों तथा कन्फ्यूशियस संस्थानों पर लगाए गए प्रतिबंधों को हटाने का भी आग्रह किया गया।

अमेरिका ने इन मुद्दों का जिक्र कर चीन की दुखती रग पर रखा हाथ

अमेरिकी प्रवक्ता के अनुसार विदेश उप सचिव वेंडी शेरमन ने शिनजियांग में अल्पसंख्यक मुसलमानों पर अत्याचार और डिटेंशनकैंप में रखे जाने का जिक्र करने के साथ ही तिब्बत में मानवाधिकार उल्लंघन और हांगकांग में उसके गैर लोकतांत्रिक तरीकों को लेकर आपत्ति जताई है। अमेरिकी विदेश उप सचिव ने बाइडन प्रशासन की ओर से चीन को इस बात से भी अवगत करायाकि वह विश्व स्वास्थ्य संगठन को सहयोग नहीं दे रहा है और कोरोना वायरस की उत्पत्ति पर दूसरे दौर की जांच से कदम वापस खींच रहा है। इसके अलावा अमेरिका की ओर से साइबर हैकिंग और साउथ चाइना सी में की जा रही हरकतों पर भी अपनी चिंता जताई।