शांति और समृद्धि के लिए भारत के साथ मिलकर काम करेंगे: प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2019   19:23
शांति और समृद्धि के लिए भारत के साथ मिलकर काम करेंगे: प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे

प्रवक्ता ने कहा कि भारत नई सरकार के साथ मिलकर काम करने का इच्छुक है। श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने 29 नवम्बर को भारत की यात्रा के मोदी के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।

कोलंबो। श्रीलंका के नये प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह दोनों देशों और क्षेत्र की शांति और समृद्धि के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ मिलकर काम करेंगे। श्रीलंका के नये प्रधानमंत्री के रूप में बृहस्पतिवार को शपथ लेने वाले महिंदा राजपक्षे ने बधाई संदेश के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा कि दोनों देश द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए निकटता के साथ काम करना जारी रखेंगे। उन्होंने एक ट्वीट किया, ‘‘धन्यवाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। आइये हम दोनों देशों और क्षेत्र की शांति और समृद्धि के लिए हमारी साझा भागीदारी को बढ़ावा देना जारी रखें।’’ इससे पहले मोदी ने श्रीलंका के नये प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लेने के लिए राजपक्षे को बधाई देते हुए कहा कि वह दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत करने के वास्ते उनके साथ काम करने के लिए तत्पर हैं। 

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका सभी से मैत्रीपूर्ण संबंध रखेगा, अंतरराष्ट्रीय शक्तियों के संघर्ष में तटस्थ रहेगा: गोटबाया

प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को बधाई और शुभकामनाएं। मैं भारत-श्रीलंका के संबंधों को और मजबूत करने के वास्ते उनके साथ काम करने के लिए तत्पर हूं।’’इस बीच नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह श्रीलंका की नई सरकार के साथ करीब से मिलकर काम करने को तैयार है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ हमें उम्मीद है कि श्रीलंका की नई सरकार द्वीप देश के तमिल समुदाय की आकांक्षाओं को पूरा करेगी।’’ प्रवक्ता ने कहा कि भारत नई सरकार के साथ मिलकर काम करने का इच्छुक है। श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने 29 नवम्बर को भारत की यात्रा के मोदी के निमंत्रण को स्वीकार कर लिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।