• मोर पंख से दूर करें 'वास्तु दोष', जानें इसके फायदे

वास्तु दोष के लिहाज से देखा जाए, तो घर में नेगेटिव एनर्जी ना आए, इसके लिए मोर पंख सबसे उत्तम है। यह वास्तुदोष से लेकर नजर दोष तक को आप से दूर रखता है, और इसके लिए आप लिविंग रूम, बेडरूम और पूजा घर में निश्चित रूप से मोर पंख लगाएं।

मोर को बेहद शुभ पक्षी माना जाता है, क्योंकि शास्त्रों में कहा गया है कि मोर में देवी-देवताओं का निवास रहता है।

भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण ने जब द्वापर युग में जन्म लिया था, तो बचपन से ही वह अपने सर पर मोर पंख धारण करते थे। आप श्री कृष्ण भगवान की कोई भी तस्वीर देखिए, उसमें उन के मुकुट में मोर पंख नजर आ जाएगा। इससे आप समझ सकते हैं कि मोर पंख की अहमियत क्या है!

इसे भी पढ़ें: बालू से पिंडदान क्यों किया जाता है? वाल्मीकि रामायण में मिलता है इसका उल्लेख

वैसे भी वास्तु दोष के लिहाज से देखा जाए, तो घर में नेगेटिव एनर्जी ना आए, इसके लिए मोर पंख सबसे उत्तम है। यह वास्तुदोष से लेकर नजर दोष तक को आप से दूर रखता है, और इसके लिए आप लिविंग रूम, बेडरूम और पूजा घर में निश्चित रूप से मोर पंख लगाएं।

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि मोरपंख बेहद खूबसूरत दिखने के साथ-साथ पवित्र भी है। मोर पंख ना केवल भगवान श्री कृष्ण, भगवान विष्णु को, बल्कि देवी लक्ष्मी को भी बेहद प्रिय है। इसके अतिरिक्त धर्म शास्त्रों की बात की जाए, तो भगवान कार्तिकेय का यह वाहन है, और इसलिए इसकी पूजा की जाती है।

अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में नेगेटिव एनर्जी ना आए, तो आपको घर के मुख्य द्वार पर मोर के तीन पंख लगाने चाहिए। वहीं मोर पंख के नीचे गणेश जी की प्रतिमा लगाएं। इससे घर में आपकी शांति- खुशहाली आनंद का माहौल रहेगा, और नकारात्मक शक्तियां आपके घर में प्रवेश नहीं कर पाएंगी।

अगर पूजा घर में आप देवताओं की तस्वीरों के साथ मोर पंख रखते हैं, तो इससे घर में समृद्धि बनती है। वहीं आर्थिक समस्याओं से भी आप दूर रहते हैं। आर्थिक समस्याओं से बचने के लिए आपको पैसा या जेवर इत्यादि रखने के स्थान पर भी मोर पंख रखना चाहिए।

अगर आप चाहते हैं कि परिवार के लोगों के बीच में आपसी सामंजस्य और प्यार बना रहे, तो आप लिविंग रूम में मोर का पंख लगा सकते हैं। इसी प्रकार मोर-पंख प्रेम का प्रतीक भी है। गोपियों के साथ नृत्य में भगवान श्रीकृष्ण हमेशा मोर पंख को धारण करते थे, इसलिए इसे प्रेम का प्रतीक भी माना गया है।

इसे भी पढ़ें: बुधवार के दिन करें इन मंत्रों का जाप, गणेश जी दूर करेंगे सारे विघ्न

वास्तु शास्त्र के अनुसार, दो मोर पंख एक साथ बेडरूम में लगाने से पति-पत्नी के बीच आपसी तालमेल एवं प्रेम बना रहता है।

वास्तु शास्त्र कहता है कि अगर किसी के ऊपर राहु का दोष है, तो उसे अपने घर के पूर्व दिशा में या उत्तर-पश्चिम दिशा में दीवार पर मोर पंख लगाना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति के ऊपर से राहु का दोष ख़त्म हो जाता है।

इसी तरह से भगवान श्री कृष्ण को जैसे मोर पंख प्रिय है, वैसे उनको बांसुरी भी प्रिय है, और अगर 'मोर-पंख' को बांसुरी के साथ रखा जाए, तो घर का वास्तु दोष निश्चित रूप से दूर होता है। आप यह जानकर आश्चर्य करेंगे कि ज्ञान की देवी सरस्वती को भी मोर पंख अत्यंत प्रिय है। 

इसीलिए अगर आप चाहते हैं कि आपकी बुद्धि तीव्र हो, आपके बच्चे की बुद्धि तीव्र हो, तो बच्चे के स्टडी रूम में मोर पंख जरूर लगाएं। किताबों के बीच में मोर पंख रखने की परंपरा कई जगह पर निभाई जाती है।

तो देखा आपने, मोर पंख रखने के वास्तव में क्या-क्या फायदे हैं, और किस प्रकार से मोर पंख रखने से आपके अपने बिगड़े काम बना सकते हैं।

- विंध्यवासिनी सिंह