संदेशों की बारिश (व्यंग्य)

messages
Creative Commons licenses
संतोष उत्सुक । Aug 24, 2022 4:58PM
चाहे कुछ भी हो जाए नेटवर्क कैसा भी काम करे दूसरे नेटवर्क में जाने की बिलकुल न सोचें। सदभावना जारी रखी जाती है यह बताकर कि आपने भुगतान कर दिया है जोकि प्रोसेस कर दिया गया है। आर्डर नंबर बताया गया एक और उपहार संदेश आया कि दो जीबी फ्री डाटा कूपन भी आपके खाते में जमा कर दिया है।

बरसात सिर्फ पानी की नहीं होती। संदेश, सदभावना और उपहारों ने बरसात जैसा शोर मचा रखा है। सुबह प्रवचन सन्देश भेजने वालों ने तो बारिश से ज़्यादा पत्ते बिखेर ही दिए होते हैं। फोन के रिचार्ज की तारीख से पहले ही पकाने वाले संदेश परोसने शुरू हो जाते हैं। कम्पनी वाले शोर मचा रहे थे कि आपके फोन में पैसे खत्म होने वाले हैं। उन्हें अपना धंधा चलाना है तभी समय से काफी  पहले शुरू हो जाते हैं। कई बार संदेश आया। हम भी कम नहीं अंतिम दिन ही रिचार्ज करवाते हैं। 

पहले बैंक से दो बार शुक्रिया सन्देश आया आईएनबी ट्रांसेशन करने का अगर नहीं की तो बताने का। ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले बढ़ते जा रहे हैं बैंक वाले भी क्या करें। फोन कम्पनी के सन्देश शुरू हो गए पहले हिंदी में बताया गया कि रिचार्ज सफलतापूर्वक हो गया है फिर उन्हें लगा हमें हिंदी आती नहीं होगी सो अंग्रेज़ी में सन्देश आया। कहा कि अपना बैलेंस टैरिफ, बेस्ट रिचार्ज चैक कर लें। कम्पनी पीछा नहीं छोड़ती गर्दन पकड़ कर सूचित करती रहती है कि आपका पैक कितने दिन के लिए वैलिड है। एक चैनल भी फ्री मिल रहा है क्लेम कर लें। हर रोज़ संदेश आता रहा बेहतरीन नेटवर्क से जुड़े रहें।

इसे भी पढ़ें: पर्यावरण बचाने के लिए ज़रूरी चिंतन (व्यंग्य)

चाहे कुछ भी हो जाए नेटवर्क कैसा भी काम करे दूसरे नेटवर्क में जाने की बिलकुल न सोचें। सदभावना जारी रखी जाती है यह बताकर कि आपने भुगतान कर दिया है जोकि प्रोसेस कर दिया गया है। आर्डर नंबर बताया गया एक और उपहार संदेश आया कि दो जीबी फ्री डाटा कूपन भी आपके खाते में जमा कर दिया है। अपना मोबाइल सोते, जागते, रोते, हंसते, लड़ते, नहाते, खाते, सड़क पर चलते गिरते, स्कूटर कार चलाते हमेशा चालू रखें और नियमों की परवाह न करें। कम्पनी मेरी जान बख्शना नहीं चाहती थी, कई दिन तक रोजाना संदेश भेजा। मोबाइल पैक के रिचार्ज की बधाई के साथ कि आप मुफ्त में लाभ उठाने के लिए एप डाउन लोड करें ताकि मोबाइल स्वतंत्रता के जाल में और फंसे रहें। यही स्वादिष्ट संदेश नया तड़का लगाकर अगले दिन फिर खिला दिया।  

पांचवें दिन फिर वही संदेश, बासी सब्जी में छौंक सा लगाकर ज़बरदस्ती परोस दिया। अगर मुझे इतिहास में घुसना आता तो मोबाइल फोन बनाने वाले की खूब पिटाई करता। उसकी वर्क शॉप तोड़फोड़ देता। हर कोई मैसेज कर रहा है। नया लुभावना सन्देश आ गया है, आपने इंटरव्यू पास कर लिया है सैलेरी आठ हज़ार रूपए रोज़ाना होगी। बढ़ती उम्र में रिलेक्स करने दो, कितने युवा नौकरी के लिए संघर्ष कर रहे हैं उन्हें सम्पर्क करो। आज सुबह फिर फोन कम्पनी का नया मैसेज आ गया है, वही एप डाउन लोड करने की सलाह। मोबाइल से दूर रहना चाहता हूं लेकिन अकेलेपन के युग में कौन करेगा मुझसे बातें, इसी बात से डरता हूं।

- संतोष उत्सुक

अन्य न्यूज़