मोदी सरकार के 'देसी Amazon' से टॉप ई कॉमर्स की मोनोपॉली होगी खत्म, लाखों किराना दुकानों को बचाने के लिए आया ONDC प्रोग्राम

मोदी सरकार के 'देसी Amazon' से टॉप ई कॉमर्स की मोनोपॉली होगी खत्म, लाखों किराना दुकानों को बचाने के लिए आया ONDC प्रोग्राम
Prabhasakshi

केंद्र सरकार देश में ई कॉमर्स को बढ़ावा देने के लिए नया डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर ओपन नेटवर्क डिजिटल कॉमर्स यानी ओएनडीसी लाने जा रही है। डिजिटल कॉमर्स के लिए ओपन नेटवर्क (ओएनडीसी) कई छोटे और बड़े पैमाने के ई-कॉमर्स खिलाड़ियों का एक नेटवर्क है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से सत्ता संभाली है, तब से उनका सबसे ज्यादा फोकस देश को डिजिटल बनाने पर है। डिजिटल इंडिया के तहत मोदी सरकार यूपीआई तो काफी पहले ला चुकी है, लेकिन अब उसकी एक और बड़ी तैयारी है। अब सरकार भी तमाम ई कॉर्मर्स कंपनियों को टक्कर देने के लिए अपना एक प्लेटफॉर्म ला रही है। ये भारत के टॉप ई कॉमर्स बिजनेस प्लेयर्स की सालों से चली आ रही मोनोपॉली को सीधी चुनौती देगी। ये सब होने वाला है सरकार के नए प्रोजेक्ट ओएनडीसी के तहत। ओएनडीसी यानी ओपन नेटवर्क डिजिटल कॉमर्स सभी के लिए नए व्यापार के विकल्प बनाएगी और छोटे सेलर्स को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। फ्लिपकार्ट, रिलायंस रिटेल और अमेज़ॅन सहित कई ई-कॉमर्स प्रमुख डिजिटल कॉमर्स (ओएनडीसी) के लिए ओपन नेटवर्क नामक एक महत्वाकांक्षी ओपन ई-कॉमर्स नेटवर्क में शामिल होने की योजना बना रहे हैं। द इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, किराना और छोटे और मध्यम व्यवसायों को ऑन-बोर्ड करने के लिए नेटवर्क का पायलट कार्यक्रम पहले से ही बेंगलुरु और चार अन्य शहरों में चल रहा है। ऐसे में आज आपको बताते हैं:-

  • ओएनडीसी क्या है?
  • यह कैसे काम करेगा?
  • इसकी क्या आवश्यकता है?
  • अब तक कौन-कौन इससे जुड़े हैं? 
  • इससे  छोटे व्यापारियों को कैसे लाभ मिलेगा?

ओएनडीसी क्या है?

केंद्र सरकार देश में ई कॉमर्स को बढ़ावा देने के लिए नया डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर ओपन नेटवर्क  डिजिटल कॉमर्स यानी ओएनडीसी लाने जा रही है। डिजिटल कॉमर्स के लिए ओपन नेटवर्क (ओएनडीसी) कई छोटे और बड़े पैमाने के ई-कॉमर्स खिलाड़ियों का एक नेटवर्क है। भले ही यह शुरुआती चरण में है, लेकिन भारत में फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन जैसी बड़ी ई-कॉमर्स फर्मों के प्रभुत्व को तोड़ने के लिए इसे एक समाधान के रूप में पेश किया जा रहा है। ओएनडीसी डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क पर वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान के सभी पहलुओं के लिए खुले नेटवर्क को  बढ़ावा देने के उद्देश्य से एक पहल है। ये किसी विशिष्ट प्लेटफॉर्म से स्वतंत्र ओपन नेटवर्क प्रोटोकॉल का उपयोग करते हुए, ओपन-सोर्स पद्धति पर आधारित होगा। खुले प्रोटोकॉल पर आधारित नेटवर्क, मोबिलिटी, ग्रोसरी, फूड ऑर्डर और डिलीवरी, होटल बुकिंग और यात्रा जैसे क्षेत्रों में स्थानीय वाणिज्य को संलग्न करने में सक्षम बनाएगा। जिसे किसी भी नेटवर्क-सक्षम एप्लिकेशन द्वारा खोजा जा सकता है। 

इसे भी पढ़ें: बदल गया पॉलिटिकल मैप और चुनाव का रास्ता हुआ साफ, हिंदुओं वाला जम्मू अब मुस्लिम बहुल कश्मीर पर भारी पड़ेगा?

इसकी जरूरत क्यों पड़ी

वर्तमान में केवल दो बड़े ई कॉमर्स खिलाड़ी ( अमेजॉन और फ्लिपकार्ट) देश के आधे से अधिक ई कॉमर्स व्यापार को नियंत्रित करते हैं। ये एकाधिकार बनाता है और बाजार तक सीमित पहुंच, कुछ विक्रेताओं के लिए तरजीही व्यवहार और आपूर्तिकर्ता मार्जिन पर दबाव जैसे मुद्दों को जन्म देता है। बिजनेस स्टैंडर्ड के अनुसार प्लेटफॉर्म का उद्देश्य नए अवसर पैदा करना, डिजिटल एकाधिकार पर अंकुश लगाना और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों और छोटे व्यापारियों का समर्थन करना और उन्हें ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लाने में मदद करना है। यह वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) की एक पहल है। ओएनडीसी के साथ जुड़ने और एकीकृत करने में फ्लिपकार्ट और अमेज़ॅन की रुचि उनके एकाधिकार को तोड़ देगी। बदले में ये बड़े प्लेटफार्मों को माल की आपूर्ति के लिए ओएनडीसी के विक्रेता पक्ष में टैप करने में मदद करेगा।

अब तक कौन- कौन जुड़े हैं?

रिपोर्ट में पाया गया कि फ्लिपकार्ट की लॉजिस्टिक्स शाखा एकर्ट और रिलायंस रिटेल समर्थित डंजो पहले ही लॉजिस्टिक्स सेवाओं के लिए ओएनडीसी के साथ जुड़ चुकी हैं। फोनपे, जो फ्लिपकार्ट और वॉलमार्ट के स्वामित्व में भी है, नेटवर्क में शामिल हो रहा है और एकीकरण के उन्नत चरणों में है, रिपोर्ट में कहा गया है। पेटीएम पहले से ही नेटवर्क का एक हिस्सा है।

क्यों इसे माना जा रहा है महत्वपूर्ण कदम?

ऑनलाइन और ऑफलाइन व्यापारियों के लिए समान अवसर प्रदान करने के अलावा, ओएनडीसी खरीदारों के एक बड़े वर्ग को नेटवर्क पर सभी विक्रेताओं के लिए उपलब्ध कराएगा। ओएनडीसी के सीईओ थंपी कोशी ने द इकोनॉमिक टाइम्स के हवाले से कहा कि मौजूदा बड़े ईटेलर्स उपयोगकर्ताओं के एक कैप्टिव सेट के साथ काम करते हैं। एक खुले नेटवर्क के साथ, ओएनडीसी नेटवर्क के सभी खरीदारों को सभी विक्रेताओं के लिए खोजे जाने योग्य बनाएगा। इसलिए, मौजूदा प्लेटफॉर्म को भी ओएनडीसी का हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहन मिलेगा। 

इसे भी पढ़ें: यूपी-बिहार तो यूं ही है बदनाम, पूरे भारत में सबसे ज्यादा इस प्रदेश में है जातिवाद की राजनीति का बोलबाला

कब और कहां क्रियाशील होगा?

ओएनडीसी पहले से ही पांच शहरों - बेंगलुरु, नई दिल्ली, कोयंबटूर, भोपाल और शिलांग में अपना पायलट कार्यक्रम चला रहा है। नेटवर्क का लक्ष्य अगस्त तक लगभग 100 शहरों में अपनी उपस्थिति बढ़ाना और मौजूदा पांच शहरों में इसे व्यापक जनता के लिए खोलना है। रिपोर्ट में कहा गया है कि नेटवर्क वर्तमान में "बीटा परीक्षण" चरण में है, जिसमें केवल पांच विक्रेता ऑनबोर्ड और पांच शहरों के खरीदारों का एक सीमित समूह है। जून के पहले सप्ताह तक, हम इसे इन पांच शहरों में व्यापक जनता के लिए उपलब्ध कराना चाहते हैं। अगस्त तक हम 75-100 शहरों में पहुंचना चाहते हैं और साल के अंत तक हमें देश भर में वहां पहुंचना होगा।

यह कैसे काम करेगा?

ग्राहक नेटवर्क के साथ एकीकृत किसी भी ऐप के माध्यम से ओएनडीसी पर विक्रेताओं तक पहुंच सकते हैं। इसके बाद विक्रेता लॉजिस्टिक फर्मों के साथ गठजोड़ करके डिलिवरी करेगी। ओएनडीसी के पास विक्रेताओं के लिए लेजर और भुगतान प्रोसेसर जैसी सेवाएं भी होंगी।

ई-कॉमर्स बाजार में इजाफा की उम्मीद

ओएनएडीसी की सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि सरकार कैसे एक सहज मंच का निर्माण करती है जो यूजर्स के अनुकूल है और अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसे मौजूदा प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेटफार्मों की तुलना में बेहतर खरीदारी का माहौल देने में सक्षम है। सरकार को भी तेजी से विवाद समाधान सुनिश्चित करना चाहिए। वर्तमान में, भारत में 4,000 से अधिक छोटी और बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियां हैं, 500 लॉजिस्टिक्स कंपनियां सामान वितरित करती हैं। भारतीय ई-कॉमर्स बाजार के 2026 तक बढ़कर 200 बिलियन डॉलर होने की उम्मीद है।

-अभिनय आकाश 






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राजनीति

झरोखे से...