असम के तेजपुर में बाल गृह में 11 बच्चें कोरोना वायरस से संक्रमित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   19:33
असम के तेजपुर में बाल गृह में 11 बच्चें कोरोना वायरस से संक्रमित

असम के तेजपुर में बाल गृह में 11 बच्चों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया।इस बीच, असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एएससीपीसीआर) की सदस्य रूपा हजारिका ने टीएमसीएच का दौरा किया और संक्रमित पाए गए 11 बच्चों की स्थिति के बारे में जानकारी ली।

तेजपुर। असम के सोनितपुर जिले के एक बाल गृह में 11 बच्चे कोविड-19 से पीड़ित पाए गए हैं। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। तेजपुर के इस बाल गृह में काम करने वाले छह कर्मियों को भी कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है। अधिकारी ने बताया कि सभी 17 लोगों को तेजपुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल (टीएमसीएच) में भर्ती किया गया है, जहां उनकी हालत स्थिर है। उन्होंने बताया कि मिशनरीज ऑफ चैरिटी के इस बाल गृह को एक निरूद्ध क्षेत्र घोषित किया गया है। जिले के संयुक्त स्वास्थ्य निदेशक जे अहमद ने बताया कि इससे पहले, इसी केंद्र के तीन बच्चों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था।

इसे भी पढ़ें: एंटीलिया मामला : प्रदीप शर्मा 12 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया

अहमद ने कहा कि महामारी की दूसरी लहर के दौरान, सोनितपुर जिले के 259 बच्चे कोविड​​​​-19 से संक्रमित हुए हैं, जिनमें से एक ने इस बीमारी के कारण दम तोड़ दिया। इस बीच, असम राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एएससीपीसीआर) की सदस्य रूपा हजारिका ने टीएमसीएच का दौरा किया और संक्रमित पाए गए 11 बच्चों की स्थिति के बारे में जानकारी ली। उन्होंने सोनितपुर के उपायुक्त, अतिरिक्त उपायुक्तों, जिला बाल संरक्षण अधिकारी (डीसीपीओ), बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के अध्यक्ष और सदस्यों और किशोर न्याय बोर्ड के सदस्यों के साथ बैठक की, ताकि प्रभावित बच्चों की देखभाल के लिए किए जा रहे उपायों का पता लगाया जा सके। हजारिका ने कहा कि मीडिया में ऐसी खबरें हैं कि नागांव, जोरहाट और डिब्रूगढ़ सहित अन्य जिलों में भी कई बच्चे कोविड-19 से संक्रमित हुए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।