मानसून सत्र के सातवें दिन भी हंगामा जारी, राज्यसभा से विपक्ष के 19 सांसद एक हफ्ते के लिए सस्पेंड

Uproar in Rajyasabha
ANI
अंकित सिंह । Jul 26, 2022 3:01PM
राज्यसभा में विभिन्न मुद्दों पर हंगामा कर रहे कई विपक्षी सदस्यों को इस सप्ताह की शेष बैठकों के लिए निलंबित किये जाने के बावजूद उनके सदन से बाहर नहीं जाने तथा हंगामे के कारण कार्यवाही तीन बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजकर 42 मिनट पर एक घंटे के लिए स्थगित किया गया है।

संसद के मानसून सत्र का आज सातवां दिन है। सातवें दिन भी विपक्ष अलग-अलग मुद्दों को लेकर लगातार हंगामा कर रहा है। इन सब के बीच हंगामा कर रहे हैं। विपक्ष के 19 सांसदों को एक सप्ताह के लिए राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया है। इनमें विभिन्न दलों के सांसद शामिल हैं। जिन सांसदों को निलंबित किया गया है उनमें तृणमूल कांग्रेस की सुष्मिता देव, मौसम नूर, शांता छेत्री, डोला सेन, अभिरंजन विश्वास और मोहम्मद नदीम उल हक शामिल हैं। इसके अलावा आर वद्दीराजू, एस कल्याणासुंदरम, आर गिररंजन, एनआर इलांगो, एम शणमुगम, दामोदर राव दिवाकोंडा और पी संदोष कुमार को भी निलंबित किया गया है। इन सांसदों को सदन के वेल में प्रवेश करके नारेबाजी करने के लिए निलंबित किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: 5,502 कश्मीरी पंडितों को दी गई नौकरी, 6000 ट्रांजिट आवास के निर्माण को मंजूरी, सरकार ने संसद में दिया जवाब

राज्यसभा में विभिन्न मुद्दों पर हंगामा कर रहे कई विपक्षी सदस्यों को इस सप्ताह की शेष बैठकों के लिए निलंबित किये जाने के बावजूद उनके सदन से बाहर नहीं जाने तथा हंगामे के कारण कार्यवाही तीन बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजकर 42 मिनट पर एक घंटे के लिए स्थगित किया गया है। हंगामे के कारण आज भी उच्च सदन में शून्यकाल नहीं हो पाया। सदस्यों के हंगामे और नारेबाजी के बीच ही उपसभापति हरिवंश ने प्रश्नकाल चलाया। हालांकि इस दौरान भी कार्यवाही 15 मिनट के लिए बाधित हुई। प्रश्नकाल समाप्त होते ही उन्होंने सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी थी।  

इसे भी पढ़ें: शिंदे का जिक्र करते हुए सीट विवाद को लेकर सरकार पर बरसे मल्लिकार्जुन खड़गे, बोले- आप अपने लोगों को बैठाते हो आगे

हंगामे के बीच जैविक उर्वरक, आयुष चिकित्सा प्रणाली को बढ़ावा, सागरमाला परियोजना और जीएसटी सहित विभिन्न मुद्दों पर सदस्यों ने सवाल किए और संबंधित मंत्रियों ने इनके जवाब भी दिए। उपसभापति ने आसन के समक्ष आकर हंगामा कर रहे सदस्यों से बार-बार अनुरोध किया कि वे अपने-अपना स्थान पर लौट जाएं और प्रश्नकाल के दौरान व्यवधान ना पैदा करें। हालांकि सदस्यों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। उन्होंने सदस्यों के इस आचरण को ‘‘अशोभनीय’’ करार दिया और कुछ सदस्यों को सदन में ‘पोस्टर’ लहराने पर चेतावनी भी दी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़