अखिलेश ने कार्यकर्ता के समक्ष 350 सीट का रखा लक्ष्य, बोले- लोकतंत्र बचाने का अंतिम अवसर 2022 है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 23, 2021   21:14
अखिलेश ने कार्यकर्ता के समक्ष 350 सीट का रखा लक्ष्य, बोले- लोकतंत्र बचाने का अंतिम अवसर 2022 है

समाजवादी पार्टी कार्यालय के राममनोहर लोहिया सभागार में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता निष्ठा से सक्रिय रहें और राज्य में 350 सीट का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए रात-दिन काम करना पड़ेगा।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि लोकतंत्र बचाने का अंतिम अवसर 2022 है और उत्तर प्रदेश में चुनाव की जनप्रतिक्रिया शुरू हो चुकी है, भाजपा ने राज्य की जनता का चार वर्ष से अधिक समय बर्बाद कर दिया है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा की चालों से सावधान रहना है, भाजपा राग-द्वेष से सरकार चला रही है और विधानसभा चुनाव आने तक भाजपा कई रंग दिखाएगी। समाजवादी पार्टी कार्यालय के राममनोहर लोहिया सभागार में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये यादव ने कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता निष्ठा से सक्रिय रहें और राज्य में 350 सीट का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए रात-दिन काम करना पड़ेगा। 

इसे भी पढ़ें: सतीश चंद्र मिश्र का दावा, ब्राह्मण और 23 प्रतिशत दलित मिल जाएं तो प्रदेश में बनेगी बसपा की सरकार 

प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके अखिलेश ने आरोप लगाया कि केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकार का चरित्र जनविरोधी है। उन्होंने कहा,‘‘किसान बिल के द्वारा भाजपा किसानों का भविष्य खराब कर पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाना चाहती है। काले कृषि कानून से खेत का मालिकाना अधिकार किसानों के हाथ से निकल जाएगा। भाजपा सुविधा के नाम पर असुविधा की व्यवस्था करती है। सरकार ने मण्डी व्यवस्था की उपेक्षा की है। अन्नदाता को उसकी फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) नहीं मिला। किसानों की आय दूर-दूर तक दोगुनी होने की कोई सम्भावना नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...