पिछले पांच सालों में सरकारी डॉक्टरों के विरूद्ध हिंसा के 29 मामले सामने आये: पटवारी

29-cases-of-violence-against-government-doctors-came-in-the-last-five-years-patwari
पटवारी ने कहा, ‘‘ 14 मामलों में कुल 52 लोग गिरफ्तार किये गये, आरोपपत्र दायर किये गये और अंतिम रिपोर्ट में पांच मामले वापस कर दिये गये जबकि दस मामलों में जांच लंबित है।’

गुवाहाटी। असम के संसदीय कार्य मंत्री चंद्रमोहन पटवारी ने सोमवार को कहा कि राज्य में पिछले पांच सालों में सरकारी डॉक्टरों के विरूद्ध हिंसा के 29 मामले सामने आये। वह विधानसभा में भाजपा के सदस्य नुमल मोमिन द्वारा पूछे गये सवाल का मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की तरफ से जवाब दे रहे थे। पटवारी ने कहा, ‘‘ 14 मामलों में कुल 52 लोग गिरफ्तार किये गये, आरोपपत्र दायर किये गये और अंतिम रिपोर्ट में पांच मामले वापस कर दिये गये जबकि दस मामलों में जांच लंबित है।’’

इसे भी पढ़ें: पूर्वोत्तर राज्यों में शुरू हुआ हाथी का मांस खाने का नया चलन

उन्होंने कहा कि डॉक्टरों पर ऐसे हमले रोकने के लिए पुलिस चौकियां स्थापित करने और गश्ती शुरू कराने जैसे कई जरूरी सुरक्षा उपाय किये गये।  उन्होंने कहा, ‘‘ ऐसे हमलों को रोकने के लिए जिले के पुलिस अधीक्षकों ने थानों और चौकियों के अधिकारियों को सरकारी अस्पतालों पर निगरानी रखने का निर्देश दिया गया है। दूसरा इस संबंध में जागरूकता रैलियां भी निकाली जाती हैं।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़