प्रदेश के आबकारी मंत्री के क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत , कांग्रेस ने की उच्च स्तरीय जांच की मांग

प्रदेश के आबकारी मंत्री के क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत , कांग्रेस ने की उच्च स्तरीय जांच की मांग

मंदसौर जिले में जहरीली शराब ने मौत का तांडव मचा दिया है। इस शराब को पीने से लगभग 3 से 5 लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में प्रदेश कांग्रेस ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में जहरीली शराब ने मौत का तांडव मचा दिया है। इस शराब को पीने से लगभग 3 से 5 लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में प्रदेश कांग्रेस ने तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन किया है। वहीं पूरे मामले में कांग्रेस ने उच्च स्तरीय जांच की भी मांग की है।

इसे भी पढ़ें:मध्यप्रदेश में बढ़ती जा रही है रिश्वतखोरी, दो जिलों में हुई लोकायुक्त की कार्यवाही 

आपको बता दें कि आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा के क्षेत्र मंदसौर में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि इस शराब के पीने के बाद 3 अन्य लोगों का इलाज अभी भी चल रहा है। हालांकि इलाज के बाद 1 व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ हो गया है। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि इस मुद्दे के बाद टीआई शिवकुमार यादव और कार्यवाहक एसआई रामलाल दड़िंग और आबकारी अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है।

वहीं इस मामले में कांग्रेस ने जांच की मांग की है। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट किया है कि ”शिवराज सरकार में प्रदेश के उज्जैन , मुरैना , भिंड , ग्वालियर के बाद अब प्रदेश के मंदसौर ज़िले के खंकराई गाँव में ज़हरीली शराब से 3 लोगों की मौत व कुछ लोगों की गंभीर हालत की ख़बर सामने आयी है ?

इसे भी पढ़ें:MP में होने वाले उपचुनावों से पहले बीजेपी ने फूंका चुनावी बिगुल, मंत्रियों को दी क्षेत्रों की ज़िम्मेदारियां 

आगे उन्होंने लिखा कि प्रदेश के आबकारी मंत्री के क्षेत्र की यह स्थिति ? पता नही शिवराज सरकार में माफिया कब गढ़ेंगे , कब टगेंगे , कब लटकेंगे ? माफ़ियाओ के हौसले बुलंद ? मै सरकार से माँग करता हूँ कि इस पूरी घटना की उच्च स्तरीय जाँच हो , पीड़ित परिवारों की हर संभव मदद हो , शिवराज जी की पूर्व की घोषणा अनुसार दोषियों व ज़िम्मेदारों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो.”

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।