AAP ने किया किसानों का समर्थन, कहा - काले कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   19:00
  • Like
AAP ने किया किसानों का समर्थन, कहा - काले कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए

‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत महानगर में प्रवेश का प्रयास करने वाले किसानों की भिड़ंत दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पुलिस से हुई जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। बाद में अधिकारियों ने किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने और बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दी।

नयी दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों ने शुक्रवार को किसानों का समर्थन किया जो केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और कहा कि इन ‘‘काले कानूनों’’ को वापस लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब के किसान ‘‘काफी संघर्ष’’ के बाद दिल्ली पहुंचे और इस दौरान उन्हें विभिन्न बॉर्डर पर आंसू गैस के गोले, पानी की बौछारें और लाठीचार्ज का सामना करना पड़ा।  ‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत महानगर में प्रवेश का प्रयास करने वाले किसानों की भिड़ंत दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पुलिस से हुई जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। बाद में अधिकारियों ने किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने और बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दी।

पार्टी के पंजाब प्रभारी और तिलक नगर से विधायक जरनैल सिंह ने कहा कि आप किसानों की मांग के समर्थन में खड़ी है। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक इन काले कानूनों को वापस नहीं लिया जाता है तब तक किसान अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे और आप उनके समर्थन में खड़ी है।’’ आप के बुराड़ी के विधायक संजीव झा ने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों से मुलाकात कर सुनिश्चित करने के लिए कहा कि निरंकारी मैदान में प्रदर्शन करने के दौरान किसानों को कोई दिक्कत नहीं आए। बाद में वह किसानों का स्वागत करने सिंघु बॉर्डर पहुंचे। झा ने कहा कि उन्होंने किसानों के प्रतिनिधियों से भी मुलाकात की और उन्हें आश्वासन दिया कि वह हरसंभव प्रयास करेंगे कि किसानों को किसी तरह की समस्या नहीं आए। आप के प्रवक्ता और राजिंदर नगर के विधायक राघव चड्ढा ने किसानों का स्वागत किया और कहा कि पार्टी सभी आवश्यक व्यवस्था का ख्याल रखेगी। 

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलनः UP के कई जिलों में चक्का जाम, शनिवार-रविवार को भी जारी रहेगा आंदोलन

राज्यसभा के सदस्य संजय सिंह ने भी किसानों को समर्थन दिया। उन्होंने कहा, ‘‘इतने संघर्ष के बाद किसानों को दिल्ली में प्रदर्शन करने की अनुमति दी गई है। उन पर लाठीचार्ज किया गया, आंसू गैस के गोले छोड़े गए और जब सरकार के सभी उपाय विफल हो गए तो उन्हें अनुमति दी गई। सरकार ने बैठक की तारीख खिसकाकर तीन दिसंबर क्यों कर दी। किसान अभी संघर्ष कर रहे हैं तो तब तक क्यों इंतजार किया जाए।’’ रिठाला से आप के विधायक मोहिंदर गोयल ने कहा कि किसानों को भोजन देने के लिए उनके विधानसभा क्षेत्र में रसोई शुरू कर दी गई है। चांदनी चौक से आप के विधायक परलाद सिंह साहनी ने ट्वीट किया कि आप दिल्ली में किसानों का स्वागत करती है। उन्होंने कहा, ‘‘हम किसानों का पूरा ख्याल रखेंगे और सभी आवश्यक इंतजाम करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


दो महीने से चल रहा किसान आंदोलन दिल्ली हिंसा के बाद पड़ा कमजोर, किसानों ने खोया समर्थन !

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   08:37
  • Like
दो महीने से चल रहा किसान आंदोलन दिल्ली हिंसा के बाद पड़ा कमजोर, किसानों ने खोया समर्थन !

रेवाड़ी के पुलिस अधीक्षक अभिषेक जोरवाल ने फोन पर बताया, प्रदर्शनकारियों ने मसानी कट विरोध स्थल को खाली कर दिया है और उनमें से कुछ टीकरी चले गए हैं, जबकि कुछ जय सिंहपुरा खेड़ा गांव (हरियाणा-राजस्थान सीमा पर राजस्थान में) गए हैं।

चंडीगढ़। ट्रैक्टर रैली के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा के बाद हरियाणा में विरोध कर रहे किसान बुधवार को अपना समर्थन खोते दिखे। हरियाणा के रेवाड़ी जिले में कम से कम 15 गांवों की एक पंचायत ने बुधवार को तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर डेरा डाले किसानों से 24 घंटे के भीतर सड़क खाली करने को कहा। पुलिस ने बताया कि तीन जनवरी से जयपुर-दिल्ली राजमार्ग पर रेवाड़ी में मसानी बैराज कट के पास धरना दे रहे किसानों ने बुधवार शाम तक वह स्थान खाली कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: लाल किला हिंसा मामले में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना के खिलाफ मामला दर्ज 

रेवाड़ी के पुलिस अधीक्षक अभिषेक जोरवाल ने फोन पर बताया, प्रदर्शनकारियों ने मसानी कट विरोध स्थल को खाली कर दिया है और उनमें से कुछ टीकरी चले गए हैं, जबकि कुछ जय सिंहपुरा खेड़ा गांव (हरियाणा-राजस्थान सीमा पर राजस्थान में) गए हैं। कई अन्य लोग घर लौट गए हैं।” उन्होंने कहा कि पिछले कई हफ्तों से राज्य में राजमार्गों पर कई टोल प्लाजा के पास घेराबंदी कर रहे किसानों ने शाम तक विरोध स्थलों को खाली कर दिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मध्य प्रदेश में कोरोना के 185 नये मामले, 06 लोगों की मौत

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 28, 2021   08:35
  • Like
मध्य प्रदेश में कोरोना के 185 नये मामले, 06 लोगों की मौत

स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर-21, भोपाल-60, जबलपुर-16 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम मरीज मिले हैं। इनमें 22 जिले ऐसे हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना के नये मामलों में लगातार कमी देखने को मिल रही है। यहां बीते 24 घंटों में कोरोना के 185 नये मामले सामने आए हैं, जबकि 06 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या दो लाख 54 हजार 270 और मृतकों की संख्या 3799 हो गई है। यह जानकारी स्वास्थ्य विभाग द्वारा बुधवार देर शाम जारी कोरोना से संबंधित हेल्थ बुलेटिन में दी गई। नये मामलों में इंदौर-21, भोपाल-60, जबलपुर-16 के अलावा अन्य जिलों में 10 से कम मरीज मिले हैं। इनमें 22 जिले ऐसे हैं, जहां आज नये प्रकरण शून्य रहे।

 

इसे भी पढ़ें: शादी का झांसा देकर दो साल से कर रहा था दुष्‍कर्म, आरोपी गिरफ्तार

बुलेटिन के अनुसार, आज प्रदेशभर में 16,413 सेम्पलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई। इनमें 185 पॉजिटिव और 16,228 रिपोर्ट निगेटिव आईं, जबकि 38 सेम्पल रिजेक्ट हुए। पाजिटिव प्रकरणों का प्रतिशत 1.1 रहा। इसके बाद राज्य में संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 2,54,085 से बढ़कर 2,54,270 हो गई है। इनमें सबसे अधिक इंदौर में 57,359, भोपाल-42,312, ग्वालियर 16,370, जबलपुर 16,195, खरगौन 5398, सागर 5358, उज्जैन 4929, रतलाम-4673, रीवा-4091, धार-4084, होशंगाबाद 3826, शिवपुरी-3630, विदिशा-3591, बैतूल-3566. नरसिंहपुर 3503, सतना-3458, मुरैना 3231, बालाघाट-3153, नीमच 3026, शहडोल 2981, देवास-2935, बड़वानी 2898, छिंदवाड़ा 2830, मंदसौर 2819, सीहोर-2789, दमोह-2756, झाबुआ 2500, रायसेन-2459, राजगढ़-2406, खंडवा 2333, कटनी 2248, हरदा-2125, छतरपुर-2099, अनूपपुर 2090, सीधी 2006, सिंगरौली 1906, दतिया 1898, शाजापुर 1788, सिवनी 1573, गुना-1548, भिण्ड-1500, श्योपुर 1474, उमरिया-1302, टीकमगढ़ 1302, अलीराजपुर 1294, मंडला-1219, अशोकनगर-1133, पन्ना 1116, डिंडौरी 985, बुरहानपुर 869, निवाड़ी 679 और आगरमालवा 657 मरीज शामिल हैं।

 

इसे भी पढ़ें: श्रीराम मंदिर के नाम पर भाजपा देशवासियों को डराकर कर रही है चंदा- दिग्विजय सिंह

राज्य में आज कोरोना से 06 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। मृतकों में भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, बैतूल, बड़वानी और दमोह के एक-एक मरीज शामिल हैं। इसके बाद राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 3793 से बढ़कर 3799 हो गई है। मृतकों में सबसे अधिक इंदौर के 924, भोपाल 607, ग्वालियर-224, जबलपुर-251, खरगौन-105, सागर-149, उज्जैन 104, रतलाम-80, धार-58, रीवा-35, होशंगाबाद-61, शिवपुरी-30, विदिशा-71, नरसिंहपुर-30, सतना-42, मुरैना-29, बैतूल-74, बालाघाट-14, शहडोल-30, नीमच-37, देवास-27, बड़वानी-30, छिंदवाड़ा-45, सीहोर-48, दमोह-87, मंदसौर-35, झाबुआ-27, रायसेन-46, राजगढ़-66, खंडवा-63, कटनी-17, हरदा-35, छतरपुर-32, अनूपपुर-14, सीधी-13, सिंगरौली-26, दतिया-20, शाजापुर-22, सिवनी-10, भिण्ड-10, गुना-26, श्योपुर-15, टीकमगढ़-27, अलीराजपुर-15, उमरिया-17, मंडला-10, अशोकनगर-17, पन्ना-04, डिंडौरी-01, बुरहानपुर-27, निवाड़ी-02 और आगरमालवा-10 व्यक्ति शामिल है।

 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान सड़क हादसे में मध्य प्रदेश के 8 लोगों की मौत,राजगढ़ जिले का रहने वाला था परिवार

बुलेटिन में राहत की खबर यह है कि राज्य में अब तक 2,47,418 मरीज कोरोना को मात देकर अपने घर पहुंच चुके हैं। इनमें 345 मरीज बुधवार को स्वस्थ हुए। अब प्रदेश में कोरोना के सक्रिय प्रकरण 3,053 हैं। वही मध्य प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन का काम जारी है। बुधवार को वैक्सीनेशन का छठवां दिन था और आज राज्यभर में 1058 केन्द्रों पर 64,596 हितग्राहियों को टीके लगाए गए। इस प्रकार अब तक कुल एक लाख 32 हजार 064 हितग्राहियों का टीकाकरण हो चुका है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


लाल किला हिंसा मामले में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना के खिलाफ मामला दर्ज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   08:29
  • Like
लाल किला हिंसा मामले में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना के खिलाफ मामला दर्ज

अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता, सार्वजनिक संपत्ति को क्षति से रोकथाम अधिनियम और अन्य कानूनों की प्रासंगिक धाराओं के तहत उत्तरी जिले के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया है।

नयी दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने लाल किले पर हुई हिंसा के सिलसिले में दर्ज प्राथमिकी में अभिनेता दीप सिद्धू और ‘गैंगस्टर’ से सामाजिक कार्यकर्ता बने लक्खा सिधाना के नाम लिए हैं। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि दिल्ली पुलिस ने भारतीय दंड संहिता, सार्वजनिक संपत्ति को क्षति से रोकथाम अधिनियम और अन्य कानूनों की प्रासंगिक धाराओं के तहत उत्तरी जिले के कोतवाली थाने में मामला दर्ज किया है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने अपना धरना वापस लिया, 57 दिनों बाद चिल्ला बॉर्डर फिर से खोला गया 

प्राथमिकी में प्राचीन स्मारकों और पुरातात्विक स्थलों और अवशेष अधिनियम तथा शस्त्र अधिनियम के प्रावधानों को भी जोड़ा गया है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) की ओर से जारी आदेश के मुताबिक लाल किला 27 जनवरी से 31 जनवरी तक आगंतुकों के लिए बंद रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept