AAP ने किया किसानों का समर्थन, कहा - काले कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   19:00
AAP ने किया किसानों का समर्थन, कहा - काले कृषि कानून वापस लिए जाने चाहिए

‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत महानगर में प्रवेश का प्रयास करने वाले किसानों की भिड़ंत दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पुलिस से हुई जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। बाद में अधिकारियों ने किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने और बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दी।

नयी दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों ने शुक्रवार को किसानों का समर्थन किया जो केंद्र के कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और कहा कि इन ‘‘काले कानूनों’’ को वापस लिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पंजाब के किसान ‘‘काफी संघर्ष’’ के बाद दिल्ली पहुंचे और इस दौरान उन्हें विभिन्न बॉर्डर पर आंसू गैस के गोले, पानी की बौछारें और लाठीचार्ज का सामना करना पड़ा।  ‘दिल्ली चलो’ मार्च के तहत महानगर में प्रवेश का प्रयास करने वाले किसानों की भिड़ंत दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पुलिस से हुई जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े। बाद में अधिकारियों ने किसानों को दिल्ली में प्रवेश करने और बुराड़ी के निरंकारी मैदान में शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने की अनुमति दी।

पार्टी के पंजाब प्रभारी और तिलक नगर से विधायक जरनैल सिंह ने कहा कि आप किसानों की मांग के समर्थन में खड़ी है। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक इन काले कानूनों को वापस नहीं लिया जाता है तब तक किसान अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे और आप उनके समर्थन में खड़ी है।’’ आप के बुराड़ी के विधायक संजीव झा ने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों से मुलाकात कर सुनिश्चित करने के लिए कहा कि निरंकारी मैदान में प्रदर्शन करने के दौरान किसानों को कोई दिक्कत नहीं आए। बाद में वह किसानों का स्वागत करने सिंघु बॉर्डर पहुंचे। झा ने कहा कि उन्होंने किसानों के प्रतिनिधियों से भी मुलाकात की और उन्हें आश्वासन दिया कि वह हरसंभव प्रयास करेंगे कि किसानों को किसी तरह की समस्या नहीं आए। आप के प्रवक्ता और राजिंदर नगर के विधायक राघव चड्ढा ने किसानों का स्वागत किया और कहा कि पार्टी सभी आवश्यक व्यवस्था का ख्याल रखेगी। 

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलनः UP के कई जिलों में चक्का जाम, शनिवार-रविवार को भी जारी रहेगा आंदोलन

राज्यसभा के सदस्य संजय सिंह ने भी किसानों को समर्थन दिया। उन्होंने कहा, ‘‘इतने संघर्ष के बाद किसानों को दिल्ली में प्रदर्शन करने की अनुमति दी गई है। उन पर लाठीचार्ज किया गया, आंसू गैस के गोले छोड़े गए और जब सरकार के सभी उपाय विफल हो गए तो उन्हें अनुमति दी गई। सरकार ने बैठक की तारीख खिसकाकर तीन दिसंबर क्यों कर दी। किसान अभी संघर्ष कर रहे हैं तो तब तक क्यों इंतजार किया जाए।’’ रिठाला से आप के विधायक मोहिंदर गोयल ने कहा कि किसानों को भोजन देने के लिए उनके विधानसभा क्षेत्र में रसोई शुरू कर दी गई है। चांदनी चौक से आप के विधायक परलाद सिंह साहनी ने ट्वीट किया कि आप दिल्ली में किसानों का स्वागत करती है। उन्होंने कहा, ‘‘हम किसानों का पूरा ख्याल रखेंगे और सभी आवश्यक इंतजाम करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।