• सिद्धू का शक्ति प्रदर्शन ! कांग्रेस के 62 विधायक उनके आवास पहुंचे, परगट सिंह बोले- CM को जनता से मांगनी चाहिए माफी

कांग्रेस विधायक परगट सिंह ने कहा कि सिद्धू को (मुख्यमंत्री से) माफी क्यों मांगनी चाहिए ? यह कोई सार्वजनिक मुद्दा नहीं है। मुख्यमंत्री ने कई मुद्दों का समाधान नहीं किया है। ऐसे में उन्हें जनता से माफी भी मांगनी चाहिए।

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस की कमान नवजोत सिंह सिद्धू को मिल चुकी है फिर भी अमरिंदर सिंह और उनके बीच का विवाद समाप्त होता हुआ नहीं दिखाई दे रहा है। इसी बीच कांग्रेस के 62 विधायक नवजोत सिंह सिद्धू के आवास पर पहुंचे। कांग्रेस विधायक मदन लाल जलालपुर पार्टी प्रदेश अध्यक्ष के अमृतसर आवास पहुंचे। जहां पर उन्होंने मीडियाकर्मियों के साथ बातचीत की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के सलाहकार उन्हें गुमराह कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: क्या नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह से मिलने का मांगा है समय ? रवीन ठकराल ने दिया यह जवाब 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस विधायक मदन लाल जलालपुर ने कहा कि मुझे विश्वास है कि आगामी विधानसभा चुनाव हम सिद्धू की वजह से जीते जाएंगे। मुख्यमंत्री के सलाहकार उन्हें गुमराह कर रहे हैं। इससे पंजाब पीछे की ओर जा रहा है।

वहीं, कांग्रेस विधायक परगट सिंह ने कहा कि सिद्धू को (मुख्यमंत्री से) माफी क्यों मांगनी चाहिए ? यह कोई सार्वजनिक मुद्दा नहीं है। मुख्यमंत्री ने कई मुद्दों का समाधान नहीं किया है। ऐसे में उन्हें जनता से माफी भी मांगनी चाहिए। दरअसल, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के मीडिया सलाहकार रवीन ठकराल ने एक ट्वीट किया। जिसकी वजह से आज वह सुर्खियों में छाए हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: ज्योतिषी की भविष्यवाणी, सिद्धू के अध्यक्ष बनने से पंजाब कांग्रेस में बढ़ेगी और चिंगारी 

उन्होंने कहा था कि ये खबरें पूरी तरह झूठी हैं कि नवजोत सिंह सिद्धू मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह से मिलने के लिये समय मांग रहे हैं। मुख्यमंत्री के रुख में कोई बदलाव नहीं आया है। वह तब तक सिद्धू से नहीं मिलेंगे जब तक वह सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ की गईं अपमानजक टिप्पणियों पर सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांग लेते।

इसी बीच नवजोत सिंह सिद्धू ने बुधवार को एक वीडियो ट्वीट किया। जिसमें उन्होंने चंडीगढ़ से लेकर अमृतसर के सफर का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि परिवर्तन की हवा- लोगों का, लोगों द्वारा और लोगों के लिए। चंडीगढ़ से अमृतसर