चुनाव में आपत्तिजनक भाषा बोलने वाले नेताओं के खिलाफ हो कार्रवाई: ज्योतिरादित्य सिंधिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   16:46
चुनाव में आपत्तिजनक भाषा बोलने वाले नेताओं के खिलाफ हो कार्रवाई: ज्योतिरादित्य सिंधिया

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चुनावों में नेताओं द्वारा आपत्तिजनक भाषा के इस्तेमाल को गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा है कि निर्वाचन आयोग को ऐसी जुबान बोलने नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार में ऐसे शब्दों के प्रयोग की निंदा होनी चाहिए।

ग्वालियर। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चुनावों में नेताओं द्वारा आपत्तिजनक भाषा के इस्तेमाल को गंभीर मुद्दा बताते हुए कहा है कि निर्वाचन आयोग को ऐसी जुबान बोलने नेताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। सिंधिया ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘‘चुनाव प्रचार में ऐसे शब्दों के प्रयोग की निंदा होनी चाहिए। ऐसे अनेक उदाहरण देखने को मिल रहे हैं, जिसमें राजनीतिक भाषा का स्तर गिरता जा रहा है, इसका एक स्तर होना चाहिए। चुनाव प्रचार में जिन नेताओं ने ऐसे शब्दों का प्रयोग किया है, उनके खिलाफ चुनाव आयोग को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: क्या हाल हो गया है ! क्षेत्रीय दलों की पिछलग्गू बन कर ही खुश हो रही है कांग्रेस

सिंधिया बृहस्पतिवार को दो दिन के दौरे पर ग्वालियर पहुंचे। दिल्ली विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान आरोप-प्रत्यारोप के गिरते स्तर को लेकर उनसे सवाल किया गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने विभिन्न योजनाओं के तहत कांग्रेस शासित राज्यों को धन का कम आवंटन करने के लिए केन्द्र सरकार की आलोचना की और कहा कि कांग्रेस शासित प्रदेशों में समाज कल्याण की योजनाओं के बजट पर कटौती की जा रही है। चाहे वह जीएसटी हो या दूसरे कोष, सभी में कटौती की जा रही है। यह संवैधानिक ढांचे के लिए ठीक नहीं है। इसे सही करना चाहिए।

इसे भी देखें: Parvesh Sahib Singh Verma से सुनिये क्यों बताया Kejriwal को आतंकवादी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...