• पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद बोले सिद्धू, आलाकमान के 18 सूत्रीय एजेंडा करेंगे लागू

सिद्धू ने ट्वीट किया, आज से हम सभी को एक ही सपने के लिए आगे बढ़कर काम करना और पंजाब में कांग्रेस के अजेय किले को मजबूत करना है। मैं माननीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का विशेष रूप से आभारी हूं कि उन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी।

चंडीगढ़। कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू नेपार्टी की पंजाब इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर शीर्षनेतृत्व का आभार जताते हुए सोमवार को कहा कि मेरा सफर अभी शुरू हुआ है। क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू और पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच कई महीनों की कड़वाहट और गुटबाजी के दौर के बाद एक दिन पहले ही सिद्धू को कांग्रेस की पंजाब इकाई की कमान सौंपी गई है। नई जिम्मेदारी मिलने के बाद सोमवार को दिनभर नेताओं और मंत्रियोंसे मुलाकात में व्यस्त रहे सिद्धू ने कहा कि वह जीतेगा पंजाब मिशन को साकार करने और राज्य में पार्टी संगठन की मजबूती के लिए कांग्रेस परिवार के प्रत्येक सदस्य के साथ मिलकर काम करेंगे। सिद्धू ने ट्वीट किया, आज से हम सभी को एक ही सपने के लिए आगे बढ़कर काम करना और पंजाब में कांग्रेस के अजेय किले को मजबूत करना है। मैं माननीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी का विशेष रूप से आभारी हूं कि उन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी। सिद्धू सोमवार सुबह चंडीगढ़ पहुंचे और पूर्व मुख्यमंत्री राजिंदर कौर भट्ठल, मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा, चरणजीत सिंह, रजिया सुल्ताना तथा सुखजिंदर सिंह रंधावा सहित पार्टी के कई अन्य नेताओं से मुलाकात की। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सिद्धू को रविवार रात पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीपीसीसी) का प्रमुख नियुक्त किया। सिद्धू ने सुनील जाखड़ की जगह ली है। अमरिंदर सिंह के कड़े विरोध के बावजूद सिद्धू को कांग्रेस का प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। सिद्धू ने कहा कि वह “जीतेगा पंजाब“ मिशन को पूरा करने के लिए कांग्रेस परिवार के प्रत्येक सदस्य के साथ मिलकर काम करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में अभी खत्म नहीं तकरार ! सिद्धू की पहली प्रतिक्रिया में कैप्टन गायब, अमरिंदर की लंच डिप्लोमेसी

पंजाब कांग्रेस के नवनियुक्त अध्यक्ष सिद्धू ने एक अन्य ट्वीट में कहा, जीतेगा पंजाब के मिशन को पूरा करने के लिए मैं पंजाब में कांग्रेस परिवार के प्रत्येक सदस्य के साथ मिलकर कामकरूंगा। हमारा उद्देश्य कांग्रेस आलाकमान के 18 सूत्रीय एजेंडे और पंजाब मॉडल के जरिए लोगों की शक्ति को उन्हें वापस लौटाना है। मेरा सफर अभी शुरू हुआ है। सिद्धू ने टि्वटर पर पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के साथ अपने पिता की एक तस्वीर भी साझा की। तस्वीर साझा करते हुए उन्होंनेलिखा, केवल कुछ लोगों के बीच नहीं बल्कि सभी के साथ समृद्धि, विशेषाधिकार और स्वतंत्रता साझा करने के लिए मेरे पिता जोकि कांग्रेस के एक कार्यकर्ता थे, उन्होंने एक शाही जिंदगी छोड़कर देश के स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लिया। उन्हें उनके देशभक्ति कार्यों के लिए मौत की सजा दी गई थी, किंग्स एमनेस्टी से राहत मिली और वह डीसीसी अध्यक्ष, विधायक, एमएलसी और महाधिवक्ता बने। सिद्धू पटियाला से सोमवार सुबह चंडीगढ़ पहुंचे। उनके साथ विधायक अमरिंदर सिंह राजा वारिंग, कुलबीर जीरा और मदनलाल जलालपुर भी थे। चंडीगढ़ पहुंचने के बाद सिद्धू विधायक कुलजीत सिंह नागरा से मिलने के लिए सीधे मोहाली स्थित उनके आवास पर गए।नागरा पार्टी के चार नये कार्यकारी अध्यक्षों में से एक हैं। नागरा के आवास पर मिठाईयां बांटी गयीं और केक भी काटा गया। सिद्धू ने पंजाब युवा कांग्रेस के अध्यक्ष बरिंदर सिंह ढिल्लों के आवास पर जाकर उनसे भी मुलाकात की। इसके बाद, सिद्धू जाखड़ के आवास पर गए, जिन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि अमृतसर पूर्व के विधायक पंजाब के लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। जाखड़ ने कहा कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव पूरी तरह से एकजुट होकर लड़ेगी। जाखड़ से मिलने के बाद सिद्धू पार्टी के कुछ विधायकों के साथ मंत्री रजिया सुल्ताना से मिलने के लिए निकल गए। इसके बाद सिद्धू और कांग्रेस के कई अन्य विधायक मंत्री तृप्त राजिंदर सिंह बाजवा के आवास पर एकत्र हो गए। सिद्धू ने पंजाब की पूर्व मुख्यमंत्री राजिंदर कौर भट्ठल के आवास पर जाकर उनका आशीर्वाद भी लिया। गौरतलब है कि सिद्धू पीपीसीसी अध्यक्ष नियुक्त होने से पहले ही कुछ दिनों से पार्टी के विभिन्न नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। इस बीच, अमृतसर में कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने सिद्धू के राज्य इकाई की कमान संभालने के अवसर पर ढोल-नगाड़े बजाकर जश्न मनाया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अगले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सिद्धू के साथ चार कार्यकारी अध्यक्षों की भी नियुक्ति की है। ये नियुक्तियां पार्टी में आंतरिक कलह के बाद हुईं है जिससे पार्टी की प्रदेश इकाई सिंह और सिद्धू के प्रति निष्ठा रखने वाले गुटों में विभाजित हो गई थी। पंजाब इकाई के नये कार्यकारी अध्यक्ष हैं... संगत सिंह गिलजियां, सुखविंदर सिंह डैनी, पवन गोयल, कुलजीत सिंह नागरा। ये सभी विभिन्न क्षेत्रों एवं जातियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने अमरिंदर सिंह को स्पष्ट तौर पर यह संदेश दिया है कि वह पूरी तरह से सिद्धू के समर्थन में है। सूत्रों के मुताबिक सिंह ने सोनिया गांधी से कहा था कि वह तब तक सिद्धू से मुलाकात नहीं करेंगे जब तक कि वह हाल में लगाए गए आरोपों को लेकर सार्वजनिक तौर पर उनसे माफी नहीं मांग लेते। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को लगता है कि सिद्धू नयी ऊर्जा और उत्साह के साथ पार्टी के चुनाव अभियान का नेतृत्व कर सकते हैं और 2022 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत सुनिश्चित करने में मदद कर सकते हैं। सिद्धू के सामने अब पंजाब में पार्टी को एकजुट करने के अलावा पुराने और दिग्गज नेताओं का विश्वास जीतने एवं कार्यकर्ताओं में एकजुटता लाने की चुनौती है। सिद्धू को कांग्रेस की पंजाब इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किए जाने पर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की ओर से अब तक कोई टिप्पणी नहीं की गयी है। मुख्यमंत्री ने यहां अपने सरकारी आवास पर कुछ मंत्रियों और विधायकों समेत पार्टी नेताओं के साथ बैठक की। इस बीच, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने सिंह द्वारा बुधवार को कांग्रेस विधायकों और सांसदों की बैठक बुलाने संबंधी मीडिया रिपोर्टों को खारिज कर दिया।