तमिलनाडु में डबल इंजन से होगा डबल विकास: पीयूष गोयल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   12:41
तमिलनाडु में डबल इंजन से होगा डबल विकास: पीयूष गोयल

रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि जब केंद्र और राज्य सरकारें दोस्तों की तरह काम करती हैं, तो आप दोहरी प्रगति और प्रगति की दोहरी गति देखते है।

चेन्नई। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि केंद्र में उनकी पार्टी की सरकार और तमिलनाडु में अन्नाद्रमुक की सरकार ‘‘दोहरे इंजन’’ की तरह है जिससे विकास की गति दोहरी होना सुनिश्वित हुआ है। उन्होंने उपमुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम के उस बयान से सहमति प्रकट की जिसमें उन्होंने कहा कि अगर केंद्र और राज्य मिलकर काम करते हैं तो लोगों को फायदा पहुंचता है। उन्होंने कहा कि इससे प्रगति दोहरी हो जाती है।

इसे भी पढ़ें: 16वीं लोकसभा का काम खत्म, अंतिम दिन Modi का जोरदार भाषण, मिला मुलायम का आशीर्वाद

वह तमिलनाडु में प्रधानमंत्री की ‘किसान सम्मान निधि’ योजना शुरू होने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘जब केंद्र और राज्य सरकारें दोस्तों की तरह काम करती हैं, तो आप दोहरी प्रगति और प्रगति की दोहरी गति देखते है।’ उन्होंने कहा, ‘आप सभी जानते हैं कि अगर एक ट्रेन में डबल इंजन लगा दिये ताएं तो ट्रेन तेज चलने लगती है।’ रेलमंत्री ने श्रोताओं से सवाल करते हुये कहा कि क्या वे तमिलनाडु के लिए दोहरा इंजन चाहते हैं तो वहां मौजूद लोगों ने इसका जवाब हां में दिया। इससे उत्साहित गोयल ने कहा कि आपके, किसानों, तमिलनाडु के लोगों और अम्मा (दिवंगत जयललिता) के आशीर्वाद से लोगों के बेहतर भविष्य के लिए काम होगा। 

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु में AIADMK-BJP के बीच चुनावी गठबंधन, पांच सीटों पर लड़ेगी भाजपा

मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने किसान सम्मान निधि योजना की प्रशंसा करते हुये कहा कि इससे राज्य के 22 लाख से अधिक छोटे किसानों को फायदा होगा। इसके लिए 277 करोड़ रूपये की राशि का इंतजाम कर दिया गया है। केंद्र ने इस योजना के तहत किसानों के लिए दो हजार रूपये वाली पहली किस्त जारी कर दी है। पन्नीरसेल्वम ने इस अवसर पर कहा जब केंद्र और राज्य सरकारें मिलजुल कर काम करती हैं तो इससे लोगों को बहुत फायदा होता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।