अमित मालवीय का दावा, इंदिरा गांधी ने पहली बार अल्पसंख्यकों के खिलाफ चलाया था बुलडोजर

अमित मालवीय का दावा, इंदिरा गांधी ने पहली बार अल्पसंख्यकों के खिलाफ चलाया था बुलडोजर
Twitter

हाल में ही बुलडोजर को लेकर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने एक आर्टिकल लिखा था। उसी आर्टिकल के जवाब में भाजपा की ओर से पलटवार किया गया है। भाजपा के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने दावा किया कि देश में पहली बार अल्पसंख्यकों के खिलाफ इंदिरा गांधी ने बुलडोजर चलाया था।

देश में बुलडोजर को लेकर राजनीति लगातार गर्म है। अवैध अतिक्रमण के खिलाफ बुलडोजर खूब चलाए जा रहे हैं। हालांकि हाल फिलहाल में हुई हिंसा की घटनाओं के बाद भी बुलडोजर खूब चले हैं। हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ भाजपा शासित राज्यों में बुलडोजर से कार्रवाई की गई है। दूसरी ओर कांग्रेस लगातार बुलडोजर को लेकर भाजपा पर निशाना साध रही है। हाल में ही बुलडोजर को लेकर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने एक आर्टिकल लिखा था। उसी आर्टिकल के जवाब में भाजपा की ओर से पलटवार किया गया है। भाजपा के आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने दावा किया कि देश में पहली बार अल्पसंख्यकों के खिलाफ इंदिरा गांधी ने बुलडोजर चलाया था। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा नेता बग्गा के खिलाफ कोई दंडात्मक कदम न उठाया जाए : उच्च न्यायालय

अमित मालवीय का दावा 

अपने ट्वीट में अमित मालवीय ने लिखा कि क्या कांग्रेस पार्टी में मनीष तिवारी से लेकर राहुल गांधी तक, हर कोई भूलने की बीमारी से पीड़ित है या वे अपने अतीत के बारे में केवल गलत जानकारी रखते हैं? उन्होंने दावा किया कि नाजियों और यहूदियों को भूल जाइए, भारत में इन्दिरा गांधी ने सबसे पहले तुर्कमान गेट पर अल्पसंख्यकों पर बुलडोजर के इस्तेमाल का आदेश दिया था। एक अन्य ट्वीट में मालवीय ने लिका कि अप्रैल 1976 में, आपातकाल के दौरान, इंदिरा गांधी के पुत्र संजय गांधी ने मुस्लिम पुरुषों और महिलाओं को जबरन नसबंदी कराने के लिए मजबूर किया। जब उन्होंने इसका विरोध किया तो तुर्कमान गेट पर बुलडोजर चलाए गए। 20 लोगों की मौत हो गई। नाजियों के साथ कांग्रेस की रूमानियत इंदिरा गांधी पर रुकनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: घरेलू गैस की बढ़ोतरी पर राहुल गांधी ने सरकार को घेरा, कहा- सिर्फ कांग्रेस ही गरीबों के लिए काम करती है

मनीष तिवारी का आर्टिकल 

हाल में ही मनीष तिवारी ने आर्टिकल लिखकर बुलडोजर चलाने को लेकर कई सवाल खड़े किए थे। उन्होंने स्पष्ट लिखा था कि बुलडोजर सिंड्रोम हमारे सिस्टम के संस्थागत हार्ड ड्राइव में घुस गया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि अब उन भारतीय और विदेशी कंपनियों के खिलाफ एक देशव्यापी आंदोलन करने की जरूरत हो गई है जिनके बुलडोजर और जेसीबी तथा अन्य भारी उपकरणों का इस्तेमाल नफरत और कट्टरता को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने लिखा था कि सुप्रीम कोर्ट को बुलडोजर के उपयोग पर रोक लगाने के लिए हस्तक्षेप करना पड़ा जिसे अवैध अतिक्रमण हटाने के लिए एक नियमित अभियान के रूप में शक्ति से तैनात किया जाता रहा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।