3 लाख रुपए खर्च कर 1000 किलो कबाड़ से तैयार की गई अनूठी कार, चौतरफा हो रही है चर्चा

3 लाख रुपए खर्च कर 1000 किलो कबाड़ से तैयार की गई अनूठी कार, चौतरफा हो रही है चर्चा
प्रतिरूप फोटो

एम्बेस्डर कार को तैयार करने में 700 किलो कबाड़ का लोहा और 400 किलो ऑटोमोबाइल के कबाड़ के पार्ट्स का इस्तेमाल किया गया है। समाचार एजेंसी एएनआई ने कबाड़ से तैयार की गई एम्बेस्डर कार का वीडियो साझा किया है। 47 वर्षीय सुंदर गुर्जर ने एम्बेस्डर कार को ऐसा रूप दे दिया कि उसकी चारो तरफ चर्चा हो रही है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के इंदौर शहर अक्सर सुर्ख़ीयों में बना रहता है। इंदौर की चर्चा कभी स्वच्छता को लेकर तो कभी इनोवेशन को लेकर होती रहती है। ऐसे में अब इंदौर से एक दिलचस्प ख़बर सामने आ रही है। इंदौर के एक कलाकार ने क़रीब 1000 किलोग्राम कबाड़ से शानदार एम्बेस्डर कार तैयार की है। जिसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग आ रहे हैं। इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर इस कार की ख़ूब चर्चा भी हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: भ्रष्ट अफसरों के खिलाफ शुरू हुआ योगी का एक्शन, अवैध खनन मामले में सोनभद्र के डीएम सस्पेंड 

एम्बेस्डर कार को तैयार करने में 700 किलो कबाड़ का लोहा और 400 किलो ऑटोमोबाइल के कबाड़ के पार्ट्स का इस्तेमाल किया गया है। समाचार एजेंसी एएनआई ने कबाड़ से तैयार की गई एम्बेस्डर कार का वीडियो साझा किया है। 47 वर्षीय सुंदर गुर्जर ने एम्बेस्डर कार को ऐसा रूप दे दिया कि उसकी चारो तरफ चर्चा हो रही है।

इसे भी पढ़ें: AFSPA को लेकर अमित शाह का बड़ा ऐलान, असम, मणिपुर और नागालैंड में अशांत क्षेत्रों को कम करने का लिया फैसला

सुंदर गुर्जर ने बताया कि इस कार को बनाने में 700 किलो नट और बाकी स्क्रैप मैटल का इस्तेमाल किया गया है। इसे बनाने में 3 महीने का समय लगा है और 3 लाख रूपए ख़र्च हुए हैं। गाड़ी की ओरिजनल बॉडी को कटर से काटकर नट फिट किया गया है। सुंदर गुर्जर ने एम्बेस्डर कार को तैयार करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी, जिसका नतीजा सभी के सामने है। इस एम्बेस्डर कार को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आ रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...