श्रीराम मंदिर को लेकर मध्य प्रदेश में अराजकता बर्दाश्त नहीं - विश्वास कैलाश सारंग

श्रीराम मंदिर को लेकर मध्य प्रदेश में अराजकता बर्दाश्त नहीं - विश्वास कैलाश सारंग

शिवराज सरकार में मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि मंदिर निर्माण के जन जागरण अभियान के दौरान कुछ अराजक तत्व बौखलाकर माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं ऐसे तत्वों को अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

भोपाल। मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा व भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि राम और राम मंदिर को लेकर प्रदेश में कोई भी अराजकता का माहौल बनाने की कोशिश करेगा तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और ऐसे अराजक लोगों पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी। सारंग ने कहा कि राम हमारे आराध्य हैं, राम हमारे भगवान हैं, राम हमारा मान है, राम हमारा सम्मान है और राम जन्मभूमि पर भगवान श्रीराम का मंदिर बनना इस देश की 135 करोड़ जनता के लिए अभिमान का विषय है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में साल 2020 की प्रमुख घटनाएं जिसने बदला इतिहास, सत्ता परिवर्तन से लेकर लव जिहाद तक

मंत्री सारंग ने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने जन्मभूमि पर राम मंदिर निर्माण के लिए स्पष्ट फैसला दिया है उसके उपरांत ही वहां मंदिर का निर्माण हो रहा है और इस निर्णय को सभी लोगों को मानना चाहिए। उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण का निर्माण सरकारी खजाने से नहीं हो रहा है बल्कि करोड़ों राम भक्त मिलकर अपने आराध्य के मंदिर का निर्माण कर रहे हैं। मंदिर निर्माण में धनराशि का महत्व नहीं है बल्कि सभी सनातनियों का जुड़ाव मंदिर से हो यह महत्व का विषय है।

 

इसे भी पढ़ें: श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए चाहत ने साल 2020 में जमा किए पैसे दिए दान, कोरोना योद्धाओं के लिए जलाए दीप

इसीलिए स्वयं सेवक जन जागरण कर प्रत्येक सनातनी से यथाशक्ति धन का संग्रह कर रहे हैं। शिवराज सरकार में मंत्री विश्वास कैलाश सारंग ने कहा कि मंदिर निर्माण के जन जागरण अभियान के दौरान कुछ अराजक तत्व बौखलाकर माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं ऐसे तत्वों को अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।