राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने विधानसभा की अमूल्य परम्परा को आगे बढ़ाने का आग्रह किया

राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने विधानसभा की अमूल्य परम्परा को आगे बढ़ाने का आग्रह किया

राज्यपाल ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक अवसर है जब हम सब यहां एकत्र हुए हैं और हमारा प्रयास होना चाहिए कि इन दो दिनों के दौरान यहां जो भी विचार-विमर्श और संकल्प हुए हैं, उन्हें साझा करें। आर्लेकर ने कहा कि हर राज्य की अलग-अलग समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन उनका समाधान उस क्षेत्र की परिस्थितियों के अनुकूल संभव है।

 शिमला  हिमाचल प्रदेश विधानसभा में पीठासीन अधिकारियों के 82वें सम्मेलन के समापन सत्र में राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने कहा कि वाद-विवाद और संवाद हमारी समृद्ध परम्परा और संस्कृति का अभिन्न हिस्सा रहा है और हमें इस परम्परा को देश की विधानसभाओं में स्थापित करने की आवश्यकता है।

राज्यपाल ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक अवसर है जब हम सब यहां एकत्र हुए हैं और हमारा प्रयास होना चाहिए कि इन दो दिनों के दौरान यहां जो भी विचार-विमर्श और संकल्प हुए हैं, उन्हें साझा करें। आर्लेकर ने कहा कि हर राज्य की अलग-अलग समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन उनका समाधान उस क्षेत्र की परिस्थितियों के अनुकूल संभव है। लेकिन, विधानसभा या विधान परिषद् एक ऐसी जगह है जहां सार्थक चर्चा होती है और प्रत्येक सदस्य को अपनी समस्या रखने और बोलने का अवसर देना आवश्यक है।

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर व मुख्यमंत्री ने गुरु नानक जयन्ती पर बधाई दी

उन्होंने कहा कि हमारे देश की परम्परा ऐसी है कि इसमें हरेक की राय ली जानी चाहिए। उन्होंने ऋग्वेद का उदाहरण देते हुए कहा कि हमारे पास हर तरफ से मूल्यवान विचार आने चाहिए और विधानसभा एक ऐसा ही स्थल है। विधानसभा अध्यक्ष को सभी सदस्यों को बोलने का अवसर देना चाहिए और यह हमारी परम्परा भी रही है। आर्लेकर ने कहा कि हमारा लोकतंत्र केवल 100 वर्षों का नहीं है। स्मृतियों में उल्लेख है कि देश और राज्य को चलाने के लिए कमेटियों का गठन किया जाता रहा है और उस समय भी असेंबली शब्द का प्रयोग होता था। उन्होंने कहा कि राजा भी उन समितियों की बात सुनने के लिए बाध्य होता था। राज्यपाल ने कहा कि हमने बहस, विवाद, चर्चा की अवधारणा को नजरअंदाज नहीं किया जैसी कि परम्परा हमारे पूर्वजों ने स्थापित की थी। उन्होंने कहा कि लोकतांत्रिक परम्पराएं हमारे लिए नई नहीं हैं, वे स्वाभाविक विचार हैं और हमें इन परंपराओं को स्थापित करने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने डलहौजी में राजकीय महाविद्यालय खोलने की घोषणा की

पीठासीन अधिकारियों को नवीनतम तकनीक की जानकारी की आवश्यकता पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि जब वे गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे, तो उन्होंने इसे कागजरहित विधानसभा बनाया। उन्होंने प्रधानमंत्री द्वारा एक राष्ट्र एक विधान मंच की स्थापना का भी समर्थन किया और कहा कि इस मंच के माध्यम से हम अपने राज्यों के अच्छे आचरण को दूसरों के साथ साझा कर सकते हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि जब हम स्वतंत्रता का शताब्दी वर्ष मनाएंगे, तो हम नई ऊंचाइयों को प्राप्त करेंगे। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यहां आने वाले सभी सदस्य हिमाचल की सुखद यात्रा और इस क्षेत्र की अविस्मरणीय यादें भी ले जाएंगे। इस अवसर पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में लोकतंत्र की मजबूती के लिए कई संकल्प और निर्णय लिए गए हैं, जो विधानसभाओं के कामकाज में व्यापक परिवर्तन लाने में सहायक होंगे। उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी का पूर्ण उपयोग कर एक राष्ट्र एक विधान मंच के संकल्प को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा और वर्ष 2022 तक इसे साकार कर लिया जाएगा। उन्होंने संसदीय समितियों को अधिक प्रभावी बनाने पर भी बल दिया और पीठासीन अधिकारियों को वर्ष में एक बार समितियों की समीक्षा करने को कहा। उन्होंने कहा कि इस सम्मेलन का संकल्प सभा में सार्थक चर्चा करना और इसे लोगों के प्रति जवाबदेह बनाना है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा कार्यसमिति के सफल आयोजन के लिए संचाल समिति में 14 विभागों का हुआ गठन

बिड़ला ने कहा कि सदन में अनुशासनहीनता को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने की आवश्यकता है और इस दिशा में पीठासीन अधिकारियों की जिम्मेदारी अधिक है, जिन्हें सदन में मान-प्रतिष्ठा बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने सदन में अधिक चर्चा पर बल देते हुए कहा कि हर समस्या का समाधान बहस से किया जा सकता है। उन्होंने पीठासीन अधिकारियों से आग्रह किया कि नियम और प्रक्रियाएं बनाते समय आमजन को केन्द्र में रखा जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: भाजपा प्रदेश कार्यसमिति बैठक-24, 25 एवं 26 नवम्बर, 2021 को शिमला में: जम्वाल

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा युवा कार्य एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने विधानसभाओं में प्रौद्योगिकी और अनुसंधान के बेहतर उपयोग पर बल दिया। उन्होंने कहा, शोध होगा तो गुणात्मक चर्चा भी होगी। उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारी किसी दल विशेष के नहीं होते और उन्हें युवा प्रतिनिधियों को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष अवसर देने चाहिए। उन्होंने हमारी समृद्ध लोकतांत्रिक प्रक्रिया में चर्चा को और बेहतर बनाने पर बल दिया और पीठासीन अधिकारियों को राजधानी शिमला के ऐतिहासिक पहलुओं से भी अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश को कोरोना महामारी की कठिन परिस्थितियों से बाहर निकाला है। देश ने कोविड के विरूद्ध टीकाकरण की 100 करोड़ से अधिक खुराकें पूरी की हैं। उन्होंने अमृत महोत्सव के दौरान विधायिका सप्ताह आयोजित करने और चर्चा के लिए 75 विषयों को चुनने का सुझाव दिया।

राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने कहा कि 82वें सम्मेलन में तैयार किया गया रोडमैप अगले 100 वर्षों के लिए प्रेरणास्रोत होगा। यह रोडमैप लोगों की आकांक्षाओं के अनुरूप तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि सम्मेलन के दौरान दिए गए सुझाव लोकतंत्र को सुदृढ़ करने का कार्य करेंगे। उन्होंने पंचायती राज संस्थाओं को सुदृढ़ करने पर बल दिया। उन्होंने सम्मेलन के सफल आयोजन और उपलब्ध कराई गई व्यवस्थाओं के लिए राज्य सरकार का आभार व्यक्त किया।

इससे पूर्व, हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने राज्यपाल एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियों को सम्मानित किया। उन्होंने हिमाचल प्रदेश विधानसभा के गौरवशाली इतिहास की जानकारी दी और समृद्ध परंपराओं को आगे बढ़ाने का आश्वासन दिया। हिमाचल प्रदेश विधान सभा के उपाध्यक्ष हंस राज ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।