भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों से टकराव के वीडियो को बताया फर्जी, कहा- कोई झड़प नहीं हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 31, 2020   21:51
भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों से टकराव के वीडियो को बताया फर्जी, कहा- कोई झड़प नहीं हुई

भारतीय सेना ने भारत और चीन के सैनिकों के बीच टकराव का कथित वीडियो सामने आने के बाद रविवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में वर्तमान में दोनों पक्षों के बीच कोई हिंसा नहीं हो रही है। इसने सोशल मीडिया पर चल रहे उस वीडियो को खारिज किया ।

नयी दिल्ली। भारतीय सेना ने भारत और चीन के सैनिकों के बीच टकराव का कथित वीडियो सामने आने के बाद रविवार को कहा कि पूर्वी लद्दाख में वर्तमान में दोनों पक्षों के बीच कोई हिंसा नहीं हो रही है। इसने सोशल मीडिया पर चल रहे उस वीडियो को खारिज किया जिसमें पूर्वी लद्दाख में चीनी और भारतीय सैनिक कथित तौर पर आपस में भिड़ते दिखाई देते हैं। सेना ने एक बयान में कहा, ‘‘वीडियो में दिख रही चीजें प्रामाणिक नहीं हैं। इसे उत्तरी सीमाओं पर स्थिति से जोड़ने का प्रयास दुर्भावनापूर्ण है।

इसे भी पढ़ें: इस्लामिक आक्रमण मांडू में 19000 राजपूतों का कत्ल, सेक्यूलरिज्म ने सत्य पर डाला पर्दा

वर्तमान में कोई हिंसा नहीं हो रही है।’’ हालांकि, सेना ने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या यह वीडियो पूर्व में हुए किसी टकराव का है। बयान में कहा गया कि दोनों देशों के बीच सीमा प्रबंधन पर स्थापित प्रोटोकॉल के तहत दोनों पक्षों के बीच मतभेदों का सैन्य कमांडरों के बीच वार्ता के माध्यम से समाधान किया जा रहा है। बिना तारीख वाले वीडियो में पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो क्षेत्र में भारतीय और चीनी सैनिक कथित रूप से आपस में भिड़ते दिखाई देते हैं। भारतीय सैनिकों को पहुंची चोट दिखाने वाली अप्रमाणित तस्वीरें भी सोशल मीडिया पर आई हैं। सेना ने कहा, ‘‘दोनों देशों के बीच सीमा प्रबंधन पर स्थापित प्रोटोकॉल के अनुरूप सैन्य कमांडरों के बीच वार्ता के माध्यम से मतभेदों का समाधान किया जा रहा है।’’

इसे भी पढ़ें: सेना की कैंटीन में लगी आग, दमकल की आठ गाड़ियां घटनास्थल पर भेजी गई

बयान में कहा गया, ‘‘हम राष्ट्रीय सुरक्षा पर प्रभाव डालने वाले मुद्दों को सनसनीखेज बनाने के प्रयासों की कड़ी निंदा करते हैं। मीडिया से आग्रह है कि वह दृश्य सामग्री को प्रसारित न करे जिससे सीमाओं पर मौजूदा स्थिति के खराब होने की आशंका है।’’ पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग त्सो, गलवान घाटी, देमचोक और दौलत बेग ओल्डी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच तीन सप्ताह से अधिक समय से गतिरोध जारी है जिसे 2017 के डोकलाम गतिरोध के बाद सबसे बड़ी सैन्य तनातनी माना जा रहा है।

स्थिति तब बिगड़ गई जग पैंगोंग त्सो क्षेत्र में पांच मई की शाम भारत और चीन के लगभग 250 सैनिकों के बीच हिंसक टकराव हुआ जिसमें दोनों देशों के 100 से अधिक सैनिक घायल हो गए। पैंगोंग त्सो के आसपास फिंगर क्षेत्र में भारत द्वारा एक महत्वपूर्ण सड़क बनाए जाने और गलवान घाटी में दारबुक-शयोक-दौलत बेग ओल्डी को जोड़ने वाली एक और महत्वपूर्ण सड़क के निर्माण पर चीन का कड़ा विरोध टकराव का कारण बना। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि विवाद के समाधान के लिए चीन के साथ सैन्य और राजनयिक स्तर पर द्विपक्षीय वार्ता जारी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।