आकांक्षी जिला कार्यक्रम का मकसद समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 12, 2021   10:50
आकांक्षी जिला कार्यक्रम का मकसद समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ (एडीपी) ने आकांक्षी जिलों में तेजी से विकास के लिए प्रेरणास्रोत का काम किया है।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि भारत के ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ (एडीपी) का मकसद हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों का समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है। मोदी ने साथ ही इस बात पर प्रसन्नता जताई कि संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने एडीपी की मुख्य विशेषताओं को रेखांकित किया है। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ (एडीपी) ने आकांक्षी जिलों में तेजी से विकास के लिए प्रेरणास्रोत का काम किया है।

इसे भी पढ़ें: असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने संघ प्रमुख मोहन भागवत से की मुलाकात

यूएनडीपी ने कहा, ‘‘स्वास्थ्य देखभाल एवं पोषण, शिक्षा जैसे कुछ क्षेत्रों में और काफी हद तक कृषि और जल संसाधन जैसे क्षेत्रों में कुछ अहम परिवर्तन आए हैं।’’ उसने कहा कि यह उत्साहजनक है क्योंकि विकास के मूल्यांकन के लिए ये क्षेत्र महत्वपूर्ण हैं। इस पर मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘भारत के ‘आकांक्षी जिला कार्यक्रम’ का मकसद हमारे देश के विभिन्न क्षेत्रों का समावेशी और समग्र विकास सुनिश्चित करना है। इस कार्यक्रम के तहत कई जिलों में आमूल-चूल परिवर्तन हुए हैं। यह देखकर प्रसन्नता हुई कि यूएनडीपी की रिपोर्ट में इसकी प्रमुख विशेषताओं को रेखांकित किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।