आठवले का तंज,‘राहुल गांधी की यात्रा में दम नहीं और इस यात्रा से हमें कोई गम नहीं’

ramdas athawale
ANI
भोपाल में नर्सरी की तीन वर्षीय छात्रा के साथ बलात्कार और देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते यौन अपराधों पर आठवले ने कहा कि ऐसे मामले मानवता पर बहुत बड़ा कलंक हैं। उन्होंने कहा कि इन मामलों के मुजरिमों को अदालत से फांसी की सजा मिलनी चाहिए और ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए समाज को उनका बहिष्कार भी करना चाहिए।
इंदौर (मध्यप्रदेश)। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में निकाली जा रही भारत जोड़ो यात्रा पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने बृहस्पतिवार को इसे भारत तोड़ो यात्रा बताया। उन्होंने यह दावा भी किया कि इस बेदम यात्रा से गांधी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने सियासी कामयाबी नहीं मिल सकती। आठवले ने अपने चिर-परिचित अंदाज में तुक मिलाते हुए इंदौर में संवाददाताओं से कहा, गांधी की यात्रा भारत जोड़ो यात्रा नहीं, बल्कि भारत तोड़ो यात्रा है। इस यात्रा में कोई दम नहीं और इस यात्रा को लेकर हमें कोई गम नहीं।’’ 

इसे भी पढ़ें: गांधी परिवार ही चुनेगा कांग्रेस का नया अध्यक्ष! पार्टी के चुनावी प्रक्रिया पर फिर से उठने लगे सवाल

केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री आठवले ने कहा कि कई धर्मों, जातियों और भाषाओं वाले भारत को डॉ. भीमराव आम्बेडकर के बनाए संविधान ने काफी पहले जोड़ दिया था और अब प्रधानमंत्री मोदी ‘‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’’ की भावना से देश जोड़ने के काम को आगे बढ़ा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जब तक मोदी प्रधानमंत्री के रूप में देश की बागडोर संभाल रहे हैं, तब तक गांधी को राजनीतिक सफलता मिलने वाली नहीं है, भले ही वह कितनी भी यात्राएं निकालते रहें। गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत समेत कांग्रेस के आठ विधायकों के सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने पर केंद्रीय मंत्री ने कहा,‘‘ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि कांग्रेस में राहुल गांधी के नेतृत्व को पसंद नहीं किया जा रहा है। इस दल में अब कुछ भी नहीं बचा है। गुलाम नबी आजाद कांग्रेस छोड़ चुके हैं और कई अन्य वरिष्ठ नेता पार्टी नेतृत्व से नाराज हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: महंगाई पर मोदी सरकार की चुप्पी तोड़ने के लिए शुरू की गई भारत जोड़ो यात्रा : कांग्रेस

भोपाल में नर्सरी की तीन वर्षीय छात्रा के साथ बलात्कार और देश में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते यौन अपराधों पर आठवले ने कहा कि ऐसे मामले मानवता पर बहुत बड़ा कलंक हैं। उन्होंने कहा कि इन मामलों के मुजरिमों को अदालत से फांसी की सजा मिलनी चाहिए और ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए समाज को उनका बहिष्कार भी करना चाहिए। आठवले, कानूनों और सरकारी नीतियों के जरिये दिव्यांगों के प्रति संवेदना बढ़ाने के लिए सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन समारोह में भाग लेने इंदौर आए थे। समारोह में इस विभाग के केंद्रीय मंत्री डॉ. वीरेंद्र कुमार और राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक ने भी शिरकत की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़