बांधवगढ़ के वन क्षेत्र लगी आग, मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान

Bandhavgarh forest area caught fire
दिनेश शुक्ल । Mar 31, 2021 9:31PM
गर्मी के दिनों में इस तरह की घटनाएं आम तौर पर जंगल के अंदर हो जाती हैं, लेकिन इस बार आग ने विकराल रूप धारण कर लिया है। बताया गया है कि पिछले 3 दिनों में अलग-अलग जगह आग लगने की जानकारी सामने आई है। आग लगने की जानकारी सामने आने के बाद फायर लाइन काटने का काम तेज कर दिया गया और वन हमले को अलर्ट कर दिया गया।

बांधवगढ़। मध्य प्रदेश के बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के जंगल में कई जगह आग लगने से अफरा तफरी का महौल है। जहाँ एक तरफ वन्य प्राणियों की सुरक्षा तो वही दूसरी ओर दुर्लभ पेड़ों को बचाए जाने को लेकर वन अमला आग बुझाने में लगा हुआ है। जानकारी के अनुसार बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के खितोली, मगधी और ताला जोन में आग लगी हुई है। राष्ट्रीय उद्यान के अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग समय में आग लगने की जानकारी मिल रही है।

इसे भी पढ़ें: लम्बी अवधि का लॉकडाउन न हो, यह हमारा प्रयास - शिवराज सिंह चौहान

आग लगने की पुष्टि प्रबंधन ने भी की है। साथ यह भी बताया है कि आग पर नियंत्रण की पूरी कोशिश की जा रही है। गर्मी के दिनों में इस तरह की घटनाएं आम तौर पर जंगल के अंदर हो जाती हैं, लेकिन इस बार आग ने विकराल रूप धारण कर लिया है। बताया गया है कि पिछले 3 दिनों में अलग-अलग जगह आग लगने की जानकारी सामने आई है। आग लगने की जानकारी सामने आने के बाद फायर लाइन काटने का काम तेज कर दिया गया और वन हमले को अलर्ट कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: जबलपुर के मझौली में 100 एकड़ की गेहूं फसल आग में जलकर खाक

वही ऐसा बताया जा रहा है कि जंगल में आग लगने की घटनाएं लगभग हर साल होती हैं। बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के अलावा रेगुलर फॉरेस्ट में भी जंगल के अंदर ग्रामीण महुआ बीनने के लिए आग लगा देते हैं। जिससे वन अमले को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। हालांकि गर्मी की शुरुआत में ही वन अमले को सतर्क कर दिया जाता है कि गांव के लोग लोगों पर नजर रखें ताकि वे आग न लगाने पाएं। 2 साल पहले भी बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में बुरी तरह से आग लग गई थी और काफी पेड़ जलकर नष्ट हो गए थे। इसके अलावा घुनघुटी के जंगल में भी आग ने विकराल रूप धारण कर लिया था।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 2,173 नये मामले, 10 लोगों की मौत

बांधवगढ़ में लगी आग को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को वन विभाग के अधिकारियों से घटना की जानकारी प्राप्त की। प्रमुख सचिव, वन ने जानकारी दी कि अग्नि की घटनाओं पर नियंत्रण कर लिया गया है। किसी भी तरह की हानि नहीं हुई है। किसी वन्य-प्राणी की मृत्यु भी नहीं हुई है। क्षेत्र में वन विभाग के दल तैनात हैं। आग लगने के कारणों का पता कर नियंत्रण के लिए एक कार्य-योजना भी तैयार की गई है। मुख्यमंत्री चौहान ने कार्य योजना के क्रियान्वयन के निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी उपस्थित रहे।

 

इसे भी पढ़ें: राहुल सिंह लोधी ने जमा किया दमोह से नामांकन पत्र, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष और मुख्यमंत्री रहे उपस्थित

बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में स्थित है। यह वर्ष 1968 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। इसका क्षेत्रफल 437 वर्ग किमी है। यह भारत का सबसे सघन टाइगर रिजर्व है जहाँ सबसे कम क्षेत्रफल में बाघों की संख्या सबसे अधिक है, यहां बाघ आसानी से देखे जा सकते है। 1993 में इसे टाइगर रिजर्व घोषित किया गया। यह मध्य प्रदेश का एक ऐसा राष्ट्रीय उद्यान है जो 32 पहाड़ियों से घिरा है। यह भारत का एक प्रमुख राष्ट्रीय उद्यान हैं। बांधवगढ़ 448 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है। इस उद्यान में एक मुख्य पहाड़ है जो 'बांधवगढ़' कहलाता है। 811 मीटर ऊँचे इस पहाड़ के पास छोटी-छोटी पहाड़ियाँ हैं। पार्क में साल और बंबू के वृक्ष प्राकृतिक सुंदरता को बढ़ाते हैं। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़