कोटा में फंसे छात्रों को लेकर बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कह दी बड़ी बात

कोटा में फंसे छात्रों को लेकर बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने कह दी बड़ी बात

भाजपा चाहती है कि कोटा समेत दूसरे राज्य में फंसे बिहार के बच्चों को वापस लाया जाए। खबरों के अनुसार प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अगर स्वास्थ्य को लेकर राज्य में कोई समस्या नहीं हो तो बच्चों को लाया जा सकता है।

लॉकडाउन की वजह से तमाम ऐसे छात्र हैं जो कि कोटा में फंसे हुए हैं। कोटा में फंसे छात्रों को लेकर इन दिनों राजनीति भी तेज हो गई है। तमाम विपक्ष के नेता सरकार पर निशाना साधने में लगे हैं क्योंकि अन्य राज्य के मुख्यमंत्रियों ने अपने अपने छात्रों को वापस बुला लिया है। जिसको लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधने की कोशिश की गई। वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कोटा के छात्रों को लेकर बड़ी बात कह दी है। संजय जायसवाल ने कहा कि पार्टी इस मामले पर संवेदनशील है। भाजपा चाहती है कि कोटा समेत दूसरे राज्य में फंसे बिहार के बच्चों को वापस लाया जाए। खबरों के अनुसार प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अगर स्वास्थ्य को लेकर राज्य में कोई समस्या नहीं हो तो बच्चों को लाया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: बिहार में कोरोना के 19 मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 242 हुई

इससे पहले एमएलसी सच्चिदानंद राय ने कहा था कि लाखों प्रवासी बिहारी जो राज्य के बाहर फंसे हुए हैं और वे सबसे ज्यादा वनडे बल शिक्षण कोटा में फंसे छात्र है जिनकी उम्र 16 से 20 के बीच है वह संभवत पहली बार ही घर से बाहर निकले हैं निश्चित रूप से उनकी क्षमता मानसिक दबाव को झेलने में कम है यही वजह है कि कई राज्य सरकार उनको वापस ले गई लोग उनके इस समय में इस पर केंद्र और राज्य सरकार कोई ठोस निर्णय लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि जितनी जल्दी हो दिशा-निर्देश लेकर इन बच्चों को घर लाने का प्रयास किया जाए।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के कारण अब तक 775 की मौत, कुल 24,506 व्यक्ति हुए संक्रमित: स्वास्थ्य मंत्रालय

तेज प्रताप यादव ने मांगी बच्चों के लाने की इजाजत

कोटा के छात्रों को लेकर तेज प्रताप ने पटना में हवन किया साथ ही उन्होंने कहा कि महामारी के वक़्त में फंसे बच्चों को वापस लाया जाए। उन्होंने कहा की बस की व्यवस्था उनके द्वारा की गयी है और अगर नीतीश कुमार उन्हें अनुमति दें तो बच्चों को लाने के लिए खुद ही जाएंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।