मध्य प्रदेश के 32 जिलों में हुई बर्ड फ्लू की पुष्टि, 3,777 पक्षी मिले संक्रमित

  •  दिनेश शुक्ल
  •  जनवरी 19, 2021   10:11
  • Like
मध्य प्रदेश के 32 जिलों में हुई बर्ड फ्लू की पुष्टि, 3,777 पक्षी मिले संक्रमित

जनसम्पर्क अधिकारी सुनीता दुबे ने बर्ड फ्लू के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में अब तक 3 हजार 777 कौवों और जंगली पक्षियों में वायरस पाया गया है। ये सभी प्रभावित पक्षी 32 जिलों में पाये गये थे, जो बर्ड फ्लू की जद में आए हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश में बर्ड फ्लू का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। यहां अब तक 32 जिलों कौवों और जंगली पक्षियों-मुर्गियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। इन जिलों में  इंदौर, आगर, नीमच, देवास, उज्जैन, खण्डवा, खरगौन, गुना, शिवपुरी, राजगढ़ शाजापुर, विदिशा, दतिया, अशोकनगर, बड़वानी, भोपाल, होशंगाबाद, बुरहानपुर, छिन्दवाड़ा, डिण्डोरी, मण्डला, सागर, धार, सतना, पन्ना, बालाघाट, श्योपुर, छतरपुर, रायसेन झाबुआ, हरदा और मंदसौर शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के भिण्ड में सैनिक स्कूल को लेकर मुख्यमंत्री की रक्षामंत्री से चर्चा

जनसम्पर्क अधिकारी सुनीता दुबे ने बर्ड फ्लू के संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में अब तक 3 हजार 777 कौवों और जंगली पक्षियों में वायरस पाया गया है। ये सभी प्रभावित पक्षी 32 जिलों में पाये गये थे, जो बर्ड फ्लू की जद में आए हैं। उन्होंने बताया कि झाबुआ, हरदा और मंदसौर जिले के प्रभावी क्षेत्रों में मुर्गियों की कलिंग और रोग नियंत्रण की कार्यवाही पूरी हो चुकी है।

 

इसे भी पढ़ें: पन्ना हीरा खान की लीज अवधि बढ़ाने का केन्द्रीय मंत्री जावडे़कर से आग्रह

प्रदेश के झाबुआ जिले में 926 पक्षियों, हरदा में 3044 पक्षियों, 260 अण्डों और 634 किलोग्राम आहार सामग्री का डिस्पोजल किया गया है। मंदसौर जिले में 10 पक्षियों की कलिंग की गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के विभिन्न जिलों से 440 सेम्पल राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग अनुसंधान प्रयोगशाला, भोपाल को जाँच के लिये भेजे जा चुके हैं। प्रभावित जिलों सहित पूरे प्रदेश में बर्ड फ्लू रोग नियंत्रण के लिये हरसंभव सतर्कता और सावधानी बरती जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept