'कैसे गलत हो गए राहुल', तारिक कर्रा ने इस्तीफे की टाइमिंग पर उठाया सवाल, बोले- आजाद के माध्यम से भाजपा ने J&K में कांग्रेस को तोड़ा

Ghulam Nabi Azad
ANI Image
कांग्रेस नेता तारिक कर्रा ने श्रीनगर में गुलाम नबी आजाद द्वारा पार्टी छोड़ने के समय को लेकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद ने आखिर पार्टी छोड़ने के लिए वही वक्त क्यों चुना जब कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी की तबियत खराब है और वो देश में नहीं हैं।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता तारिक कर्रा ने शनिवार को पार्टी छोड़ने वाले गुलाम नबी आजाद पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गुलाम नबी आजाद के माध्यम से कांग्रेस को तोड़ने में सफल रही। उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद सूबे में बहुत पहले से पार्टी से इतर काम कर रहे थे और अपने इस्तीफे का समय उन्होंने खुद तय किया था। दरअसल, गुलाम नबी आजाद ने राहुल गांधी पर सवाल खड़े करते हुए शुक्रवार को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।

इसे भी पढ़ें: 'क्या है कांग्रेस की अंदरूनी स्थिति', गुलाम नबी के इस्तीफे पर बोले सिंधिया, वरिष्ठ नेता भी हो गए आजाद 

नई पार्टी बनाएंगे आजाद

जम्मू-कश्मीर में आगामी विधानसभा से पहले कांग्रेस पार्टी को गुलाम नबी आजाद के तौर पर बड़ा झटका लगा है। ऐसे में पार्टी असमंजस में है। क्योंकि गुलाम नबी आजाद के समर्थन में कई पूर्व विधायकों ने भी कांग्रेस को अलविदा कहा है और कई कार्यकर्ता और नेता भविष्य में पार्टी छोड़ सकते हैं। वहीं, गुलाम नबी आजाद ने स्पष्ट कर दिया कि वो जल्द ही नई पार्टी बनाएंगे और उसकी पहली इकाई जम्मू-कश्मीर में बनाई जाएगी।

कैसे गलत हो गए राहुल गांधी ?

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तारिक कर्रा ने श्रीनगर में गुलाम नबी आजाद द्वारा पार्टी छोड़ने के समय को लेकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद ने आखिर पार्टी छोड़ने के लिए वही वक्त क्यों चुना जब कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी की तबियत खराब है और वो देश में नहीं हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद के निशाने पर आज राहुल गांधी हैं लेकिन उन्होंने खुद राहुल गांधी का नाम प्रधानमंत्री पद के लिए प्रस्तावित किया था। ऐसे में राहुल गांधी गलत कैसे हो गए।

इसे भी पढ़ें: कई और बड़े नेता कांग्रेस से 'आजाद' होने की तैयारी में, डैमेज कंट्रोल कर पाने में गांधी परिवार विफल 

उन्होंने कहा कि आने वाले समय में गुलाम नबी आजाद के समर्थक कांग्रेस छोड़ सकते हैं लेकिन पार्टी कार्यकर्ता और नेता आज भी गांधी परिवार के साथ हैं। दरअसल, गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे को लेकर मिली जुली प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। कांग्रेस पार्टी ने उन पर जमकर हमला बोला और विश्वासघात करने का आरोप लगाया। जबकि राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने गुलाम नबी आजाद से पुर्नविचार करने का अनुरोध किया।

अन्य न्यूज़