भाजपा ने लोकसभा में कांग्रेस सदस्यों के आचरण की आलोचना की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2019   14:39
भाजपा ने लोकसभा में कांग्रेस सदस्यों के आचरण की आलोचना की

सदन की कार्यवाही आरंभ होने के साथ ही कांग्रेस सदस्य नारेबाजी करते और पोस्टर लिए हुए आसन के निकट पहुंच गए। इडेन और प्रतापन ने बड़ा पोस्टर ले रखा था जिस पर ‘स्टॉप मर्डर ऑफ डेमोक्रेसी’ लिखा था।प्रश्नकाल में कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पूरक प्रश्न पूछने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने प्रश्न पूछने से इनकार करते हुए कहा, ‘‘महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है।

नयी दिल्ली। भाजपा ने सोमवार को लोकसभा में हंगामा करने वाले कांग्रेस सांसदों के आचरण की आलोचना करते हुए सोमवार को कहा कि सभी दलों को संसद की पवित्रता और महान परंपरा को बनाने रखने के लिये साथ आना चाहिए। विधि एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से बातचीत में लोकसभा में कांग्रेस सदस्यों के व्यवहार की आलोचना करते हुए कहा, ‘‘ महाराष्ट्र में भाजपा ने नहीं बल्कि कांग्रेस ने लोकतंत्र की हत्या की।’’गौरतलब है कि महाराष्ट्र मुद्दे पर लोकसभा में सोमवार को कांग्रेस सदस्यों के भारी हंगामे और पार्टी के दो सदस्यों हिबी इडेन एवं टी एन प्रतापन तथा मार्शलों के बीच धक्का-मुक्की के बाद सदन की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: सियासी तनातनी के बीच देवेंद्र फडणवीस ने संभाली CM की कुर्सी

सदन की कार्यवाही आरंभ होने के साथ ही कांग्रेस सदस्य नारेबाजी करते और पोस्टर लिए हुए आसन के निकट पहुंच गए। इडेन और प्रतापन ने बड़ा पोस्टर ले रखा था जिस पर ‘स्टॉप मर्डर ऑफ डेमोक्रेसी’ लिखा था।प्रश्नकाल में कांग्रेस नेता राहुल गांधी को पूरक प्रश्न पूछने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने प्रश्न पूछने से इनकार करते हुए कहा, ‘‘महाराष्ट्र में लोकतंत्र की हत्या हुई है। ऐसे में प्रश्न पूछने का कोई मतलब नहीं है।’’विधि मंत्री ने जोर दिया कि महाराष्ट्र चुनाव में भाजपा..शिवसेना गठबंधन को देवेन्द्र फड़णवीस के नेतृत्व में बहुमत मिला लेकिन कांग्रेस ने शिवसेना से हाथ मिलाकर इसे चुराने का काम किया। उन्होंने कहा कि यह ‘‘राजनीतिक लालच और अवसरवाद’’ है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।