आतंकवाद और नक्सलवाद को समाप्त करने के लिए मोदी को एक और मौका दें: योगी आदित्यनाथ

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 13 2019 11:03AM
आतंकवाद और नक्सलवाद को समाप्त करने के लिए मोदी को एक और मौका दें: योगी आदित्यनाथ
Image Source: Google

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले दिनों प्रयागराज में कुंभ हुआ। प्रदेश में पहले कांग्रेस, समाजवादी और बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी। लेकिन भाजपा सरकार ने इसे वैश्विक रूप दिया है। कुंभ को वैश्विक रूप देने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का महत्वपूर्ण योगदान है।

रायपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनता से कहा है कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक और मौका दें तो देश से आतंकवाद, नक्सलवाद और अलगाववाद समाप्त होता हुआ दिखाई देगा। योगी ने रायपुर जिले के नवापारा राजिम में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने अपने संकल्प पत्र में घोषणा की है कि पार्टी आतंकवाद, नक्सलवाद, अलगाववाद और किसी भी प्रकार की भारत विरोधी गतिविधियों के लिए जीरे टालरेंस की नीति अपनाएगी। देश विरोधी गतिविधियों पर जीरो टालरेंस की नीति के साथ भारतीय जनता पार्टी ने कार्य करना प्रारंभ भी किया है। आज उसी का परिणाम है कि देश में कांग्रेस की सरकार के समय 217 जिले आतंकवाद, नक्सलवाद और अलगाववाद की चपेट में थे, आज घटकर यह पांच से छह जिलों तक सीमित रह गया है। योगी ने कहा कि भाजपा और नरेंद्र मोदी जी को एक और मौका दीजिए, आतंकवाद, नक्सलवाद और अलगाववाद सब समाप्त होता हुआ दिखाई देगा। मोदी जी ने यह करके दिखाया है चाहे वह सर्जिकल स्ट्राइक हो या एयर स्ट्राइक हो। भाजपा देश की सुरक्षा के लिए समर्पित है। एक-एक प्रत्याशी को दिया जाने वाला वोट प्रधानमंत्री मोदी को मिलेगा। 
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले दिनों प्रयागराज में कुंभ हुआ। प्रदेश में पहले कांग्रेस, समाजवादी और बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी। लेकिन भाजपा सरकार ने इसे वैश्विक रूप दिया है। कुंभ को वैश्विक रूप देने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने कहा कि जब उनसे कहा गया कि कुंभ में आतंकवादी घटना होगी तब क्या होगा। तब मैने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की और केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार है। आतंकवाद दूर से ही भागता है हमसे। आतंकवाद और नक्सलवाद हमारे नजदीक नहीं आना चाहते हैं। क्योंकि उसे पता है कि हमारे नजदीक आने का मतलब या तो जेल जाना है या राम नाम सत्य की यात्रा निकलनी है। इसके अलावा तीसरा कोई चारा नहीं है। योगी ने कहा कि वह देश के अनेक जगहों पर गए हैं। सभी को प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ही पसंद है। 60 वर्ष बनाम 60 महीने की तुलना करें तब प्रधानमंत्री मोदी का पलड़ा भारी होगा। चाहे देश के स्तर पर हो या विश्व के स्तर पर हो, प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत ने नई ऊंचाइयां हासिल की है।


 
उन्होंने कहा कि देश में 55 से 60 वर्ष तक कांग्रेस ने शासन किया। इस दौरान कांग्रेस ने गरीबी, आतंकवाद, नक्सलवाद, भ्रष्टाचार दिया और अव्यवस्था दी। जाति, धर्म, मजहब और क्षेत्रवाद के आधार पर विभाजन दिया। जब मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तब उन्होंने कहा था कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमानों का है। यदि संसाधनों पर पहला अधिकार मुसलमानों का है तब देश का गरीब कहां जाएगा। इस देश का दलित और पिछड़ा कहां जाएगा। वंचित, आदिवासी और शेष समुदाय कहां जाएगा। मुझे लगता है कि उन्हें इस तरह के शब्द बोलने से पहले सोचना चाहिए। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस की सरकार थी तब देश के विकास के लिए कहती थी कि पैसे नहीं हैं। लेकिन मोदी जी आए तब देश में माताओं को गैस कनेक्शन मिला, गरीब को घर मिला, लोगों के घर में बिजली मिली और गरीब के लिए बेहतर इलाज मिला। मोदी ने नामुमकिन को मुमकिन किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में कहा है कि सरकार बनेगी तब देशद्रोह की धारा समाप्त कर देंगे। कांग्रेस की सरकार बनी तब जम्मू कश्मीर और उत्तर पूर्व के राज्यों में सेना को दिया गया विशेष अधिकार समाप्त कर दिए जाएंगे। यानी कांग्रेस का हाथ देशद्रोहियों के साथ।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा कि केरल में राहुल गांधी नामांकन के लिए गए थे। वहां कांग्रेस का झंडा लहराना था लेकिन मुस्लिम लीग का झंडा चांद सितारे के साथ वहां लहराता हुआ दिखाई दे रहा था। यह क्या दृश्य प्रस्तुत करता है, यह कौन सा दृश्य है। इस देश को कांग्रेस कहां ले जाना चाहती है। कांग्रेस का घोषणा पत्र आतंकवाद और नक्सलवाद को प्रेरित और प्रोत्साहित करने वाला है। इसे हरगिज स्वीकार नहीं किया जा सकता। योगी आदित्यनाथ आज छत्तीसगढ़ के दौरे पर थे। उन्होंने अलग अलग स्थानों पर सभाएं कर भाजपा को वोट देने की अपील की। छत्तीसगढ़ की 11 लोकसभा सीटों के लिए चुनाव आयोग ने तीन चरणों में मतदान का फैसला किया है। पहले चरण में 11 अप्रैल को बस्तर लोकसभा सीट के लिए मतदान संपन्न हुआ है। वहीं दूसरे चरण में 18 अप्रैल को कांकेर, राजनांदगांव और महासमुंद लोकसभा सीट के लिए तथा तीसरे चरण में 23 अप्रैल को रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़, कोरबा, जांजगीर चांपा, दुर्ग और सरगुजा लोकसभा सीट के लिए मतदान होगा।


रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video