हिमाचल प्रदेष में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, स्वास्थ्य संस्थानों को सतर्क रहने के निर्देश

हिमाचल प्रदेष में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, स्वास्थ्य संस्थानों को सतर्क रहने के निर्देश

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस का उपचार प्रोटोकॉल के तहत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस महामारी का उपचार करने के लिए पुख्ता प्रबंध कर लिए गए हैं तथा इस विषय को लेकर उन्होंने उच्च अधिकारियों एवं विशेषज्ञ चिकित्सकों से बात की है।

शिमला। हिमाचल प्रदेश में अभी करोना पर पूरी तरह अंकुष नहीं लग पाया है लेकिन इस बीच ब्लैक फंगस ने आम जनमानस में चिंता और डर का महौल पैदा कर दिया है तो सरकार ने भी अब इस महामारी पर नियंत्रण पाने के लिये कमर कस ली है। प्रदेश में एकाएक ब्लैक फंगस के मामले साने लगे हैं जिसके चलते प्रदेश सरकार ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया है। सभी स्वास्थ्य संस्थानों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। ब्लैक फंगस महामारी को लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है। इसके तहत यह अधिसूचना आगामी एक साल के लिए प्रभावी होगी। इसके बाद अब सभी सरकारी व निजी स्वास्थ्य संस्थान को इसके  उपचार के लिए प्रदेश व केंद्र सरकार तथा आईसीएमआर द्वारा समय-समय पर जारी गाइडलाइंस पर अमल करना होगा। सभी निजी व सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों को ब्लैक फंगस के मामलों को संबंधित सीएमओ के माध्यम से सरकार को रिपोर्ट करना होगा। स्वास्थ्य विभाग की अनुमति के बिना कोई भी इसको लेकर प्रचार नहीं कर पाएगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना की तीसरी लहर को लेकर हर्षवर्धन ने कही ये बात, ब्लैक फंगस पर जताई चिंता

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में ब्लैक फंगस का उपचार प्रोटोकॉल के तहत किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस महामारी का उपचार करने के लिए पुख्ता प्रबंध कर लिए गए हैं तथा इस विषय को लेकर उन्होंने उच्च अधिकारियों एवं विशेषज्ञ चिकित्सकों से बात की है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में अब तक इसका एक ही मामला सामने आया है लेकिन दूसरे राज्यों में बड़े स्तर पर इसे देखा गया है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जो भी बेहतरीन हो सकता है, वह उपचार किया जाएगा। वहीं स्वास्थ्य मंत्री राजीव सहजल ने वीडियो कान्फ्रैंस के माध्यम से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से भी कोविड विषय पर बातचीत की। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने हिमाचल में कोरोना की स्थिति को जाना। उन्होंने यह जानकारी दी कि वैक्सीनेशन को किस तरह से बेहतर बनाया जा सकता है। उन्होंने इसको लेकर सुझाव दिए। इस दौरान मंत्री डॉ. राजीव सहजल ने केंद्र से अतिरिक्त ऑक्सीजन प्लांट की मांग की। हालांकि हिमाचल को 6 प्लांट केंद्र पहले दे चुका है।

इसे भी पढ़ें: सोनिया का PM से आग्रह, ब्लैक फंगस के मरीजों को राहत देने के लिए तत्काल कदम उठाए जाएं

राजीव सहजल ने कहा कि ब्लैक फंगस को लेकर सरकार पूरी तरह से सजग है तथा केंद्र के बाद प्रदेश में भी इसे महामारी घोषित किया गया है। उन्होंने कहा कि 14 मई से प्रदेश में कोरोना के मामलों में गिरावट आई है लेकिन सप्ताह व 10 दिन में यह क्रम जारी रहेगा, तभी कहा जा सकता है कि मामलों में गिरावट आ रही है। उन्होंने अपील लोगों से की है कि वे वैक्सीन लगाने के लिए आगे आएं।

इसे भी पढ़ें: राहुल का आरोप, सरकार के कुशासन के कारण है ब्लैक फंगस बीमारी

इस बीच सरकार के लिये राहत भरी खबर यह है कि प्रदेष में कोरोना संक्रमितों के मामलों में कुछ प्रतिशत गिरावट आ रही है। बीते चार दिनों से लगातार कोरोना का ग्राफ घटता जा रहा है हालांकि अभी कोरोना से मौत के मामलों में गिरावट देखने को नहीं मिल रही है। शुक्रवार को कोरोना से 57 लोगों की मौत हुई है जबकि 2334 नए संक्रमित मामले सामने आए हैं। इसके अलावा प्रदेश में एक दिन में 4533 कोरोना मरीज स्वस्थ हुए हैं। प्रदेश में अब कोरोना के एक्टिव केसों का आंकड़ा 31425 रह गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।