जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने के बारे में सोच भी नहीं सकते: नीतीश कुमार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   08:29
जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने के बारे में सोच भी नहीं सकते: नीतीश कुमार

पटना शहर स्थित जदयू कार्यालय में व्यवसायी और समाजसेवी नरेंद्र सिंह के पार्टी में शामिल होने के अवसर पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के संदर्भ में हम कभी नहीं सोच सकते।

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के संदर्भ में हम कभी नहीं सोच सकते। पटना शहर स्थित जदयू कार्यालय में व्यवसायी और समाजसेवी नरेंद्र सिंह के पार्टी में शामिल होने के अवसर पर पत्रकारों को संबोधित करते हुए नीतीश ने कहा कि कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के संदर्भ में हम कभी नहीं सोच सकते। अनुच्छेद 370 को हटाए जाने को लेकर उच्चतम न्यायालय में जनहित याचिका दायर किए जाने तथा उनकी सहयोगी पार्टी भाजपा के कई नेताओं द्वारा मांग किए जाने के बीच नीतीश ने कहा कि अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के संदर्भ में हम कभी नहीं सोच सकते। इस मुद्दे पर हमारी पार्टी का रुख स्पष्ट है।

इसे भी पढ़ें: धारा 370 हटाने से ही होगा कश्मीर समस्या का स्थायी इलाज

उन्होंने कहा कि एक आतंकवादी हमला हुआ है और भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के अलावा जो भी दोषी हैं उन्हें दंडित करने के लिए जो भी कार्रवाई संभव है वह की जानी चाहिए। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि जम्मू और कश्मीर को एक प्रावधान से वंचित किया जाना चाहिए । हम इस तरह के कदम या यहां तक कि इस आशय की मांग का समर्थन नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगर जम्मू कश्मीर में कोई घटना घट गयी तो उसे लेकर कश्मीर के लोगों के बारे में उल्टा पुल्टा नहीं सोचा जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अनुच्छेद 35-ए और 370 को कानूनी चुनौती के खिलाफ अलगाववादियों की हड़ताल

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता और प्रदेश की पिछली महागठबंधन सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे तेजस्वी प्रसाद यादव द्वारा हाल में खाली किए गए सरकारी बंगले की साज सज्जा पर भारी राशि खर्च किए जाने से संबंधित प्रश्न का उत्तर देने से इंकार करते हुए नीतीश ने कहा कि मुझे ऐसी बातों में ना घसीटें। यहां आप सभी पत्रकार मुझसे उम्र में बहुत छोटे हैं। जब मैं कहता हूं कि मेरे लिए कुछ भी कहना उचित नहीं होगा, कृपया समझने की कोशिश करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...