छावनी कोविड योद्धा संरक्षण योजना का रक्षा मंत्री ने किया शुभारंभ, 10000 कर्मियों को मिलेगा बीमा कवर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   20:56
छावनी कोविड योद्धा संरक्षण योजना का रक्षा मंत्री ने किया शुभारंभ, 10000 कर्मियों को मिलेगा बीमा कवर

रक्षा मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि भारतीय जीवन बीमा निगम के मार्फत लायी गयी सामूहिक जीवन बीमा येाजना ‘छावनी कोविड: योद्धा संरक्षण योजना’ का वेबिनार के दौरान सिंह ने जारी किया और उस दौरान राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति तथा सभी छावनी बोर्डों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मौजूद थे।

नयी दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को एक जीवन बीमा योजना का जारी किया जो देशभर के छावनी इलाकों में कार्यरत 10000 से अधिक कर्मियों को पांच-पांच लाख रूपये का बीमा कवर प्रदान करेगी। रक्षा मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि भारतीय जीवन बीमा निगम के मार्फत लायी गयी सामूहिक जीवन बीमा येाजना ‘छावनी कोविड: योद्धा संरक्षण योजना’ का वेबिनार के दौरान सिंह ने जारी किया और उस दौरान राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति तथा सभी छावनी बोर्डों के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मौजूद थे। 

इसे भी पढ़ें: रक्षा मंत्री ने डिफेन्स इण्डस्ट्रियल कॉरीडोर के प्रस्तावित सभी कार्यों को निर्धारित समयावधि में पूरा करने के दिए निर्देश

बयान के अनुसार सिंह ने यह भी कहा कि छावनी क्षेत्रों में आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री आवास योजना जैसे केंद्र प्रायोजित योजनाओं के क्रियान्वयन में कोई फासला नहीं होना चाहिए। मंत्रालय के मुताबिक इस नयी योजना से ‘सभी 62 छावनी बोर्डों में किसी दुर्भाग्यपूर्ण जानलेवा त्रासदी की स्थिति में 10000 से अधिक कर्मी पांच-पांच लाख रूपये के बीमा कवर से लाभान्वित होंगे।’’ बयान के अनुसार इस योजना से डॉक्टरों, अर्धचिकित्साकर्मियों, सफाईकर्मियों समेत स्थायी एवं अनुबंधित कर्मी लाभान्वित होंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...