कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को 21 दिन के लिये पृथक-वास में रखा जायेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   23:38
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को 21 दिन के लिये पृथक-वास में रखा जायेगा

मुख्यमंत्री ने पंचों एवं पंचायतों से कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये गांव स्तर पर निगरानी बढ़ाने की अपील की। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले किसी भी व्यक्ति को 21 दिन के पृथक—वास अवधि को पूरा किये बगैर घर जाने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों को चिन्हित स्थानों पर 21 दिनों के लिये पृथक—वास में भेजा जायेगा। जिले के उपायुक्तों एवं वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान मुख्यमंत्री ने पृथक—वास के उद्देश्य से सरपंचों को गांवों में स्कूल एवं अन्य इमारतों की पहचान करने का निर्देश दिया।

इसे भी पढ़ें: पंजाब में कोरोना के 100 से अधिक नये मामले, कुल संख्या बढ़ कर 480 पर पहुंची

मुख्यमंत्री ने पंचों एवं पंचायतों से कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये गांव स्तर पर निगरानी बढ़ाने की अपील की। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले किसी भी व्यक्ति को 21 दिन के पृथक—वास अवधि को पूरा किये बगैर घर जाने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

इसे भी पढ़ें: फरीदाबाद में कोरोना पीड़ित की मौत, हरियाणा में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 339 हुए

चूंकि, संक्रमण के लक्षण आम तौर पर कुछ समय बाद दिखते हैं। मुख्यमंत्री ने सलाह दी किजिन लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि होती है और जिनमें नहीं होती है, उन्हें अलग अलग इमारतों में पृथक—वास में रखा जाये। एक आधिकारिक बयान के अनुसार पिछले चार दिन में 3525 श्रद्धालु नांदेड़ से और 153 छात्र कोटा से वापस आये हैं। बयान में कहा गया है कि फाजिल्का से सटे राजस्थान सीमा पर 3085 श्रमिक आये हैं। इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान दी जाने वाली छूट के बारे में भी चर्चा की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।