केंद्र जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए 60,000 करोड़ रुपये खर्च करेगा: केंद्रीय मंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2021   06:18
केंद्र जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए 60,000 करोड़ रुपये खर्च करेगा: केंद्रीय मंत्री
प्रतिरूप फोटो

केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने शनिवार को बडगाम में कहा कि केंद्र द्वारा खर्च की जाने वाली राशि का उपयोग रोजगार सृजन, युवाओं को सूक्ष्म आमदनी वाली इकाइयां स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करने और स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा।

 केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने शनिवार को बडगाम में कहा कि केंद्र आने वाले दो-तीन वर्षों में जम्मू-कश्मीर में 60,000 करोड़ रुपये खर्च करेगा और इससे केंद्र शासित प्रदेश में विकास एवं समृद्धि की नयी झलक देखने को मिलेगी।

कौशल विकास एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री चंद्रशेखर मध्य कश्मीर के बडगाम जिले में वादीपोरा आईटीआई परिसर में आयोजित कार्यक्रम में आईटीआई और पॉलीटेक्निक के छात्रों को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी जम्मू-कश्मीर को देते हैं विशेष प्राथमिकता : जितेंद्र सिंह

वह जम्मू और कश्मीर के लिए केंद्र के विशेष जनसंपर्क कार्यक्रम के हिस्से के रूप में जिले में पहुंचे थे। मंत्री ने कहा कि केंद्र द्वारा खर्च की जाने वाली राशि का उपयोग रोजगार सृजन, युवाओं को सूक्ष्म आमदनी वाली इकाइयां स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित करने और स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए किया जाएगा।

इस बीच, केंद्रीय मंत्री विश्वेश्वर टुडू ने शनिवार को पंचायती राज संस्थान (पीआरआई) के सदस्यों से जम्मू-कश्मीर में जन शिकायतों के समाधान में स्थानीय लोगों और प्रशासन के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करने को कहा। जल शक्ति और जनजातीय मामलों के राज्य मंत्री टुडू ने केंद्र शासित प्रदेश में केंद्र सरकार के जनसंपर्क कार्यक्रम के तहत किश्तवाड़ जिले का दौरा किया। 

इस दौरान मंत्री ने जिला विकास परिषद (डीडीसी) के सदस्यों, ब्लॉक विकास परिषद (बीडीसी) के अध्यक्ष और पीआरआई प्रतिनिधियों के साथ चिनाब भवन में बैठक की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।