सियासी संकट के बीच केंद्र का अहम कदम, शिंदे कैंप के 15 विधायकों को दी गई 'Y+' श्रेणी की सुरक्षा

Eknath Shinde
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बागी विधायकों ने गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में डेरा जमाया हुआ है। ऐसे में महाराष्ट्र की सड़को पर बागियों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। इसी बीच केंद्र सरकार ने 15 बागी विधायकों को सुरक्षा दी है।

मुंबई। महाराष्ट्र में जारी सियासी उठापटक का आज छठवां दिन है। ऐसे में एक-दूसरे पर लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में बागी विधायकों ने गुवाहाटी के रेडिसन ब्लू होटल में डेरा जमाया हुआ है। ऐसे में महाराष्ट्र की सड़को पर बागियों के खिलाफ प्रदर्शन हो रहे हैं। इसी बीच केंद्र सरकार ने 15 बागी विधायकों को सुरक्षा दी है। 

इसे भी पढ़ें: 'हमारे संपर्क में हैं 10-15 विधायक', आदित्य ठाकरे बोले- बाढ़ से प्रभावित असम को छोड़कर बागियों पर खर्चा हो रहा लाखों रुपए 

Y+ श्रेणी की मिली सुरक्षा

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि केंद्र सरकार ने शिवसेना के 15 बागी विधायकों को 'Y+' श्रेणी के सशस्त्र केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) सुरक्षा कवच प्रदान किया है।

केंद्र सरकार ने जिन बागी विधायकों को सुरक्षा दी है, उनमें रमेश बोर्नारे, मंगेश कुदलकर, संजय शिरसत, लताबाई सोनवणे, प्रकाश सुर्वे, सदानंद सरनावनकर, योगेश दादा कदम, प्रताप सरनाइक, यामिनी जाधव, प्रदीप जायसवाल, संजय राठौड़, दादाजी भूसे, दिलीप लांडे, बालाजी कल्याणर, संदीपन भुमारे शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: शिंदे कैंप के खिलाफ मुंबई में प्रदर्शन तेज, CM ठाकरे की पत्नी ने संभाला मोर्चा, बागियों से कर रही संपर्क 

शिंदे कैंप के खिलाफ प्रदर्शन

एकनाथ शिंदे और शिवसेना के बागी विधायकों के खिलाफ शिवसैनिकों ने बाइक रैली निकाली। ऐसे में एकनाथ शिंदे के दफ्तर के बाहर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। महाराष्ट्र में जारी सियासी उठापटक का आज छठवां दिन है। ऐसे में एक-दूसरे पर लगातार आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़