SC के सवाल पर केंद्र का जवाब, हर बार वरिष्ठता के आधार पर की जाती सीईसी की नियुक्ति

SC
creative common
अभिनय आकाश । Nov 23, 2022 3:54PM
कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयुक्तों की नियुक्तियों में कानून का न होना परेशान करने वाला है। संविधान में चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति की वात तो है, लेकिन प्रक्रिया का अभाव है।

सुप्रीम कोर्ट ने मुख्य चुनाव आयुक्त और चुनाव आयुक्तों की नियुक्तियों के मामले में केंद्र सरकार से कठिन सवाल किए। कोर्ट ने पूछा कि 2004 के वाद से मुख्य चुनाव आयुक्तों के कार्यकाल कम क्यों हो रहे हैं? हमने यूपीए ही नहीं, हालिया एनडीए सरकार में भी यह देखा है। कोर्ट ने कहा कि चुनाव आयुक्तों की नियुक्तियों में कानून का न होना परेशान करने वाला है। संविधान में चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति की वात तो है, लेकिन प्रक्रिया का अभाव है। संविधान सभा ने सोचा था कि संसद इस बारे में कानून बनाएगी, लेकिन 72 वर्षों में ऐसा नहीं हुआ। यह संविधान की 'चुप्पी' के शोषण की तरह है।

इसे भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने ठग सुकेश की जेल ट्रांसफर याचिका पर केंद्र, दिल्ली सरकार से मांगा जवाब

एजी ने जवाब दिया कि उन्होंने पहले ही दिखाया है कि कैसे एक परंपरा का पालन किया जाता है, नियुक्ति में शामिल प्रक्रिया, और नियुक्तियां वरिष्ठता के आधार पर की जाती हैं, और हालिया ईसी नियुक्ति के पहलू पर, उन्होंने कहा कि कार्यालय मई से खाली था। एजी ने कहा, "यह चुनने की प्रणाली नहीं है, बल्कि एक प्रक्रिया है। पीठ ने कहा कि वह समझती है कि सीईसी की नियुक्ति ईसी के बीच से की जाती है, लेकिन फिर इसका कोई आधार नहीं है और केंद्र को केवल सिविल सेवकों तक ही सीमित क्यों रखा गया है?

इसे भी पढ़ें: Yes, Milord! जबरन धर्मांतरण देश के लिए खतरा, हादसों के केस में भविष्य में मुआवजा, इस हफ्ते के कोर्ट के कुछ खास जजमेंट/ऑर्डर

सरकार की ओर से अटॉर्नी जनरल आर वेंकटरमणी ने कहा कि हमें चुनाव आयोग में व्यक्ति के पूरे कार्यकाल को देखने की जरूरत है, न कि सिर्फ सीईसी के रूप में। 2-3 अलग-अलग उदाहरणों को छोड़कर पूरे बोर्ड में वह कार्यकाल 5 साल का रहा है। इसलिए कार्यकाल की सुरक्षा को लेकर कोई समस्या नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि सिस्टम में एक अंतर्निहित गारंटी भी है, जब भी राष्ट्रपति सुझाव से संतुष्ट नहीं होते हैं तो वह कार्रवाई कर सकते हैं। 

अन्य न्यूज़