Chandigarh University MMS Raw | हंगामें के बीच चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने 19-20 सितंबर को गैर-शिक्षण दिवस घोषित किया

Chandigarh University
प्रतिरूप फोटो
ANI
रेनू तिवारी । Sep 18, 2022 6:16PM
चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने छात्रावास के बाथरूम में महिलाओं के नहाने के कथित लीक वीडियो को लेकर परिसर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर रविवार को 19 और 20 सितंबर को गैर-शिक्षण दिवस घोषित किया। विश्वविद्यालय ने यह कदम विश्वविद्यालय परिसर में एक बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर उठाया।

चंडीगढ़ विश्वविद्यालय विवाद: चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने छात्रावास के बाथरूम में महिलाओं के नहाने के कथित लीक वीडियो को लेकर परिसर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर रविवार को 19 और 20 सितंबर को गैर-शिक्षण दिवस घोषित किया। विश्वविद्यालय ने यह कदम विश्वविद्यालय परिसर में एक बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर उठाया। 

 

चंडीगढ़ विश्वविद्यालय में विरोध-प्रदर्शन उस वक्त शुरू हुआ जब हॉस्टल की एक लड़की ने अन्य लड़कियों का नहाते हुए एमएमएस बनाया और उसे अपने मेल दोस्त, जो शिमला में रहता हैं उसे भेजा। अब तक 60 से ज्यादा लड़कियों की नहाते हुए वीडियो बनाकर लड़की ने अपने बॉयफ्रेंड को भेजा था। इस बात के सामने आने के बाद ही कैंपस में हंगामा बढ़ गया।

 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस ने 25 साल पुराने हत्या मामले का पर्दाफाश किया, महीनों तलाश में जुटे रहे पुलिसकर्मी

 

कैंपस की छात्रों ने यह भी आरोप लगाया कि वीडियो को YouTube पर पोस्ट किया। इसके तुरंत बाद विश्वविद्यालय प्रबंधन के खिलाफ भारी हंगामा देखने को मिला।मामले की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस अधिकारियों ने कहा कि प्रारंभिक जांच के अनुसार मामला सोशल मीडिया पर अनुचित वीडियो साझा करने का प्रतीत होता है। विश्वविद्यालय ने कहा कि सभी मोबाइल फोन और अन्य सामग्री आगे की जांच के लिए पुलिस को सौंप दी गई है। बयान में कहा गया है कि चंडीगढ़ विश्वविद्यालय जांच में पुलिस को पूरा सहयोग कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले आठ विधायक प्रधानमंत्री मोदी से करेंगे मुलाकात

राष्ट्रीय महिला आयोग ने पंजाब के मोहाली में एक निजी विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा उनके 'वीडियो' लीक होने के बाद कथित आत्महत्या के प्रयास के संबंध में प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है।

आयोग ने कहा कि उसे कई मीडिया रिपोर्टें और ट्विटर पोस्ट मिले हैं जिनमें आरोप लगाया गया है कि चंडीगढ़ विश्वविद्यालय के एक छात्रावास में रहने वाली लड़कियों के वीडियो लीक हो गए हैं और उनमें से कुछ ने अपनी जीवन लीला समाप्त करने की कोशिश की है।

"अफवाहों" को लेकर विश्वविद्यालय परिसर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए कि कई महिला छात्रों के कुछ आपत्तिजनक वीडियो रिकॉर्ड किए गए थे। छात्रों ने यह भी दावा किया कि प्रशासन आत्महत्या के मामलों को छिपाने की कोशिश कर रहा है।

अन्य न्यूज़