चंद्रबाबू नायडू का इनकार, कांग्रेस के साथ कोई वैचारिक मतभेद नहीं हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2018   16:28
चंद्रबाबू नायडू का इनकार, कांग्रेस के साथ कोई वैचारिक मतभेद नहीं हैं

राज्य में पीपुल्स फ्रंट के उम्मीदवारों के लिए चुनाव प्रचार अभियान के तौर पर बुधवार को गांधी के साथ कई बैठकों में शामिल होने वाले नायडू ने कहा कि गैर भाजपा दलों के लिए एक ही मंच पर आने की लोकतांत्रिक विवशता है।

 हैदराबाद। कांग्रेस के साथ हाथ मिलाने पर स्पष्टीकरण देते हुए आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेलुगु देशम पार्टी के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनके राहुल गांधी के नेतृत्व वाली पार्टी के साथ कोई वैचारिक मतभेद नहीं हैं। राज्य में पीपुल्स फ्रंट के उम्मीदवारों के लिए चुनाव प्रचार अभियान के तौर पर बुधवार को गांधी के साथ कई बैठकों में शामिल होने वाले नायडू ने कहा कि गैर भाजपा दलों के लिए एक ही मंच पर आने की लोकतांत्रिक विवशता है।

उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘राजनीतिक रूप से हम (तेदेपा और कांग्रेस) अलग हैं। तेलुगु देशम पार्टी शुरूआत से ही कांग्रेस के खिलाफ लड़ रही है और यही सच्चाई है। वैचारिक तौर पर हमारे कोई मतभेद नहीं हैं। वैचारिक रूप से हमारे भाजपा के साथ मतभेद हैं।’’ उन्होंने कांग्रेस के साथ दशकों पुराने मतभेदों के बारे में पूछे जाने पर कहा, ‘‘लेकिन आज एक लोकतांत्रिक विवशता है। इसलिए संविधान को बचाने और साथ ही संस्थानों को बचाने के लिए भाजपा के खिलाफ लड़ने की जरुरत है।’’


यह भी पढ़ें: राहुल ने मोदी पर साधा निशाना, कहा- PM ने अपने सभी वादे तोड़ दिए

मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा के पास पांच राज्यों में से कहीं पर भी जीतने का मौका नहीं है। उन्होंने दावा किया, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने देश को निराश किया। लोगों ने उन पर बहुत भरोसा किया। लेकिन उन्होंने देश को निराश किया। हर कोई दबाव और तनाव में जी रहा है। यह देश के लिए बहुत बुरा है कि वे सीबीआई, ईडी और आयकर जैसे संस्थानों का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं।’’ गैर भाजपा दलों की 10 दिसंबर को प्रस्तावित बैठक के बारे में नायडू ने कहा कि किसी भी दल का कोई औपचारिक न्यौता नहीं होगा।

यह भी पढ़ें: MEA ने इमरान को फटकारा, कहा- पवित्र अवसर पर कश्मीर का जिक्र करना गलत

यह पूछे जाने पर कि भाजपा-रोधी गठबंधन का नेतृत्व कौन करेगा, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘नरेंद्र मोदी कौन हैं? साल 2014 तक वह महज एक मुख्यमंत्री थे। वह अपनी पार्टी को जिता पाए। अब कई सक्षम लोग और प्रशासक हैं। वे नेतृत्व करेंगे। हम इस पर सहमति बनाएंगे। मैं प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हूं। मैंने कई बार कहा है। मुझे इस पहल से किसी पद या किसी फायदे की उम्मीद नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि पीपुल्स फ्रंट जीत रहा है और तेलंगाना में सरकार बना रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।