कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की मांग का अध्याय अब बंद हो चुका है: बी वाई विजयेंद्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 30, 2021   15:15
कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की मांग का अध्याय अब बंद हो चुका है: बी वाई विजयेंद्र

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कर्नाटक इकाई के उपाध्यक्ष बी वाई विजयेंद्र ने बुधवार को कहा कि उनके पिता एवं मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को पद से हटाने की मांग करने वाले पार्टी नेताओं के एक धड़े की मुहिम का अध्याय अब बंद हो चुका है।

मैसुरु। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की कर्नाटक इकाई के उपाध्यक्ष बी वाई विजयेंद्र ने बुधवार को कहा कि उनके पिता एवं मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को पद से हटाने की मांग करने वाले पार्टी नेताओं के एक धड़े की मुहिम का अध्याय अब बंद हो चुका है। विजयेंद्र से सवाल किया गया था कि क्या राज्य में नेतृत्व परिवर्तन के मुद्दे संबंधी अध्याय अब बंद हो चुका है। इसके जवाब में उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘बिल्कुल। अब कोई इस बारे में बात नहीं कर रहा।’’ उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय महासचिव और कर्नाटक प्रभारी अरुण सिंह ने स्पष्ट रूप से कहा है कि येदियुरप्पा अच्छे से प्रशासन चला रहे हैं और भाजपा सरकार उनके नेतृत्व में कार्यकाल पूरा करेगी।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस ने करीब सौ विधान सभा सीटों के लिए तय किए प्रत्याशियों के नाम

उन्होंने कहा, ‘‘जब राष्ट्रीय नेताओं, राज्य भाजपा अध्यक्ष और मुख्यमंत्री ने भी यह कह दिया है कि वह (येदियुरप्पा) आगामी दो साल के लिए इस पद पर बने रहेंगे, तो (नेतृत्व में बदलाव का) मामला बार-बार उठाने की आवश्यकता नहीं है।’’ यह पूछे जाने पर कि कुछ भाजपा नेता आए दिन दिल्ली क्यों जा रहे हैं, विजयेंद्र ने कहा कि किसी पर कोई प्रतिबंध नहीं है और उनकी यात्रा को राजनीतिक रंग देना सही नहीं है, क्योंकि वे नेता वहां अपने निजी काम के लिए जाते हैं। इस महीने की शुरुआत में अरुण सिंह तीन दिनों के लिए बेंगलुरु में थे और उन्होंने येदियुरप्पा को हटाने की कुछ नेताओं की मांग की पृष्ठभूमि में मंत्रियों, विधायकों, पार्टी नेताओं और भाजपा राज्य कोर कमेटी के सदस्यों के साथ कई बैठकें कीं। कर्नाटक कांग्रेस में “अंदरूनी कलह” के बारे में विजयेंद्र ने कहा, “यह हास्यास्पद है कि कांग्रेस में इस बात को लेकर लड़ाई चल रही है कि पार्टी से अगला मुख्यमंत्री कौन होना चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: 'आशीर्वाद यात्रा' के बाद होगा मंत्रीमंडल विस्तार! BJP देखना चाहती है- चिराग 'गूंजे धरती आसमान' वाला करिश्मा दिखा सकते हैं या नहीं?

उन्होंने कहा कि कोविड ​​-19 महामारी से पीड़ित लोगों के लिए काम करने पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय कांग्रेस नेता ‘‘आपस में लड़ रहे’’ हैं। कुछ कांग्रेस विधायकों ने कहा है कि यदि 2023 के अगले विधानसभा चुनाव मेंकांग्रेस सत्ता में आती है तो वे राज्य का नेतृत्व करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया को समर्थन देंगे, जबकि कुछ नेताओं का कहना है कि वे राज्य पार्टी प्रमुख डी के शिवकुमार को समर्थन देंगे। कांग्रेस विधायकों के इन्हीं बयानों का जिक्र करते हुए विजयेंद्र ने यह बात कही।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।