श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन में शामिल महापुरुषों के नाम पर भी होगा चौराहों का नामकरण

Ayodhya construction
ANI
‘राम नाम की धुन से रामभक्तों के मन को जगाने वाली स्वर कोकिला लता मंगेशकर की यादें अब हमेशा के लिए रामनगरी अयोध्या से जुड़ गई हैं। अयोध्या में रामजन्मभूमि मंदिर की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग के समीप स्थित नयाघाट चौराहा अब लता मंगेशकर चौक के नाम से जाना जाएगा।
अयोध्या। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि हिंदू धर्म को समर्पित स्मारक एवं राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े महान नेताओं की स्मृतियों को निकट भविष्य में संजोया जाएगा। हालांकि, यह कहते हुए उन्होंने कोई(आंदोलन से जुड़े किसी शख्स का) नाम नहीं लिया। लता मंगेशकर स्मारक के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राम काज में जिस किसी का भी योगदान होगा, अयोध्या में उनकी स्मृति को संजोया जाएगा। उन्होंने कहा कि अगले एक वर्ष के भीतर अयोध्या के सभी चौराहों का सुन्दरीकरण करते हुए इनका नामकरण महर्षि वशिष्ठ, रामानुजाचार्य, गोस्वामी तुलसीदास आदि के नाम पर किया जाएगा। उनका कहना था कि यही नहीं, श्रीरामजन्मभूमि आंदोलन में शामिल महापुरुषों के नाम पर भी चौराहों का नामकरण होगा। 

इसे भी पढ़ें: सपा का राष्‍ट्रीय अधिवेशन 29 सितंबर को, अखिलेश के लगातार तीसरी बार अध्‍यक्ष चुने जाने की सम्‍भावना

‘राम नाम की धुन से रामभक्तों के मन को जगाने वाली स्वर कोकिला लता मंगेशकर की यादें अब हमेशा के लिए रामनगरी अयोध्या से जुड़ गई हैं। अयोध्या में रामजन्मभूमि मंदिर की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग के समीप स्थित नयाघाट चौराहा अब लता मंगेशकर चौक के नाम से जाना जाएगा। लता मंगेशकर के 93वें जन्मदिन के मौके पर बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी.किशन रेड्डी ने इस स्मृति चौक का लोकार्पण किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कृति के प्रति कृतज्ञता का भाव हमारी सनातन संस्कृति और परंपरा में शामिल रही है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम के सर्वाधिक भजन गाने का गौरव लता जी को है, ऐसे में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से लता जी के प्रति कृतज्ञता स्वरूप यह चौक सँवारा गया है। अयोध्या के समग्र विकास के लिए अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि आज लता चौक तो एक शुरुआत है, आने वाले दिनों में अयोध्या अपने त्रेतायुगीन वैभव को प्राप्त करेगी एवं यह दुनिया की सुंदरतम नगरियों में से एक होगी। 

इसे भी पढ़ें: यूपी विधानसभा ने नारी सम्मान की दिशा में जो कदम उठाये उससे अन्य राज्य भी प्रेरणा लें

मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रीकाशीविश्वनाथ धाम के पुनरोद्धार के बाद इस बार श्रावण माह में एक करोड़ श्रद्धालुओं ने बाबा के दर्शन किये। उनका कहना था कि इसी तरह माँ विंध्यवासिनी परिसर का विकास भी हो रहा है, नैमिषारण्य का जीर्णोद्धार भी होगा। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकास की ये योजनाएं रोजगार सृजन का माध्यम भी बनती हैं, जिसका सीधा लाभ हमारे युवाओं को मिलेगा। उनके अनुसार डबल इंजन की सरकार सबके हित में काम कर रही है, लेकिन बिना जनसहयोग के कोई काम पूरा नहीं हो सकता। मुख्यमंत्री ने अयोध्यावासियों को स्वच्छता के प्रति आग्रही बनने की जरूरत पर बल देते हुए आगामी दीपोत्सव में अयोध्या के हर घर में दीपक जलाने का संकल्प भी दिलाया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रिकॉर्डेड संदेश पर चलाया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़