छत्तीसगढ़: नेता प्रतिपक्ष कौशिक का तंज, मुख्यमंत्री की यात्रा मुन्नाभाई एमबीबीएस के तर्ज पर है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 8, 2022   19:09
छत्तीसगढ़: नेता प्रतिपक्ष कौशिक का तंज, मुख्यमंत्री की यात्रा मुन्नाभाई एमबीबीएस के तर्ज पर है
Twitter

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश के मंत्री टीएस सिंहदेव खुद की ही सरकार को आईना दिखा रहे हैं और मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के बीच जो प्रतिस्पर्धा चल रहा है वह किसी से छिपा नहीं है और कांग्रेस चुनाव घोषणा पत्र समिति के प्रमुख मंत्री टीएस सिंहदेव ने खुद ही कहा है कि जो वादे किए थे हम उसे पूरा नहीं कर पा रहे हैं।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पूरे प्रदेश में जिस तरह से यात्रा कर रहे हैं उनका हर दृश्य मुन्ना भाई एमबीबीएस फिल्म की तरह है। जब प्रदेश में गर्मी की छुट्टी घोषित की गई है,तब बच्चें स्कूल कैसे जा रहे हैं? सारा चीज जब प्रशासन को पता है जिसकी तैयारी आगे से ही कर ली जाती है। जहां जहां मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जा रहे है। वहां की तस्वीर कुछ और ही है। केवल इवेंट मैनेजमेंट कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल केवल वाहवाही लूट रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: MP और छत्तीसगढ़ में क्या गुल खिलायेगी BJP की रणनीति ? मिशन मोड में जुटी पार्टी

कौशिक ने कहा कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था की जो स्थिति है वहां किसी से छिपी नहीं है। उस पर मुख्यमंत्री बघेल कुछ भी नहीं बोलते हैं और केवल मात्र सांस्कृतिक रूप से भावनात्मक बातें कर सबको भ्रमित कर रहे हैं। राज्य के युवा बेरोजगारी भत्ता की मांग कर रहे हैं तो मुख्यमंत्री उस पर चर्चा करने से बचते है। केवल मात्र प्रायोजित कार्यक्रमों में ही वाहवाही लूटने में व्यस्त है। एक छोटे कर्मचारियों पर कार्रवाई कर रहें हैं और जिम्मेदार अधिकारियों पर  कुछ भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं

इसे भी पढ़ें: माओवादियों ने बातचीत के लिए बघेल सरकार के समक्ष रखी ये शर्तें, कहा- CM स्पष्ट करें कि हवाई हमले की क्यों सहमति दी

नेता प्रतिपक्ष कौशिक ने कहा कि प्रदेश के मंत्री टीएस सिंहदेव खुद की ही सरकार को आईना दिखा रहे हैं और मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री के बीच जो प्रतिस्पर्धा चल रहा है वह किसी से छिपा नहीं है और कांग्रेस चुनाव घोषणा पत्र समिति के प्रमुख मंत्री टीएस सिंहदेव ने खुद ही कहा है कि जो वादे किए थे हम उसे पूरा नहीं कर पा रहे हैं। इसके साथ ही जिस तरह से उनका अपमान पूरे प्रदेश में उनके ही पार्टी के विधायक और प्रशासनिक अधिकारी कर रहे हैं। वो सही नहीं है। एक निर्वाचित जन प्रतिनिधि का प्रोटोकॉल होता है। जिसका सम्मान प्रशासन को जरूर करना चाहिए। प्रशासन के अधिकारियों पॉलिटिकल टूल के रूप में कार्य नहीं करना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।