प्रधान न्यायाधीश ने रोहिणी अदालत में गोलीबारी पर चिंता जतायी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2021   07:27
प्रधान न्यायाधीश ने रोहिणी अदालत में गोलीबारी पर चिंता जतायी
प्रतिरूप फोटो

सुप्रीम कोर्ट के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधान न्यायाधीश ने मुख्य न्यायाधीश को सुझाव दिया कि वह पुलिस और बार दोनों से बातचीत कर यह सुनिश्चित करें कि अदालती कार्यवाही बाधित नहीं हो।

 दिल्ली की रोहिणी अदालत में शुक्रवार को हुई गोलीबारी की घटना को लेकर प्रधान न्यायाधीश एन. वी. रमण ने गहरी चिंता जतायी और इस बारे में दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी. एन. पटेल से बात की।

उच्चतम न्यायालय के एक अधिकारी ने बताया कि प्रधान न्यायाधीश ने मुख्य न्यायाधीश को सुझाव दिया कि वह पुलिस और बार दोनों से बातचीत कर यह सुनिश्चित करें कि अदालती कार्यवाही बाधित नहीं हो। अधिकारी ने बताया कि न्यायिक कर्मियों और अदालत परिसरों की सुरक्षा का मुद्दा पहले ही उच्चतम न्यायालय के समक्ष विचाराधीन है और अगले सप्ताह इस मामले की सुनवाई प्राथमिकता के आधार पर हो सकती है।

इसे भी पढ़ें: रोहिणी अदालत गोलीबारी : आप ने बताया बड़ी सुरक्षा चूक

रोहिणी अदालत में शुक्रवार को वकील के वेश में आये दो हमलावरों ने गैंगस्टर जितेंद्र गोगी की गोली मारकर हत्या कर दी। पुलिस की तत्परता से की गयी जवाबी कार्रवाई में दोनों हमलावर भी मारे गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। गोलीबारी के वीडियो फुटेज में दिख रहे दो हमलावर प्रतिद्वंद्वी गिरोह से थे, जिसमें गोलियों की आवाज सुनी जा सकती है।

पुलिसकर्मियों और वकीलों के बीच हाथापाई हुई, लेकिन अधिकारियों ने कहा कि कोई और घायल या मौत नहीं हुई। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता चिन्मय बिस्वाल ने कहा कि दोनों हमलावर दिल्ली के मोस्ट वांटेड में से एक विचाराधीन कैदी गोगी के साथ मारे गए।

पुलिस ने कहा कि घटना दोपहर करीब 1.15 बजे हुई जब गोगी को सुनवाई के लिए अदालत कक्ष संख्या 207 लाया गया और वकीलों की पोशाक में आए दो गैंगस्टरों ने उस पर गोलियां चला दीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।