संविधान दिवस पर आमजन के साथ बैठकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सुना संबोधन प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण

  •  दिनेश शुक्ल
  •  नवंबर 26, 2020   19:34
  • Like
संविधान दिवस पर आमजन के साथ बैठकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने सुना संबोधन प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम का सीधा प्रसारण

इस दौरान मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नागदा शहर के रविदास चौक पाडल्या रोड की अजा बस्ती में आम नागरिकों के साथ बैठकर इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण टीवी पर देखा।

भोपाल। संविधान दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी विधानसभा के सभापति और  पीठासीन अधिकारियों को  आज गुजरात के केवड़िया में अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के 80  वें वैदिक सत्र में   संबोधित किया। जिसका सीधा प्रसारण किया गया। इस दौरान मध्य प्रदेश के  मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान नागदा शहर के रविदास चौक  पाडल्या रोड की  अजा बस्ती में आम नागरिकों के साथ बैठकर इस कार्यक्रम का  सीधा प्रसारण  टीवी पर देखा। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में आगामी तीन माह के लिए मंड़ी शुल्क 1.50 पैसे की जगह मात्र 50 पैसे लगेगा

इस  अवसर पर प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री  डॉ .मोहन  यादव, उज्जैन से लोकसभा सांसद अनिल  फिरोजिया, विधायक  बहादुर सिंह  चौहान,  पूर्व विधायक दिलीप सिंह शेखावत, बहादुरसिंह  बोरमुंडला, उज्जैन संभागायुक्त आनंद कुमार  शर्मा, अन्य अधिकारी और गणमान्य  जन-प्रतिनिधि  मौजूद  थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र सरकार करों में कटौती करके राहत प्रदान कर सकती है : देवेंद्र फडणवीस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   16:19
  • Like
महाराष्ट्र सरकार करों में कटौती करके राहत प्रदान कर सकती है : देवेंद्र फडणवीस

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कहा कि राज्य में एमवीए सरकार ईंधन के दाम में वृद्धि के मुद्दे पर लोगों को गुमराह कर रही है जबकि वह करों में कटौती करके राहत प्रदान कर सकती है।

मुम्बई। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कहा कि राज्य में एमवीए सरकार ईंधन के दाम में वृद्धि के मुद्दे पर लोगों को गुमराह कर रही है जबकि वह करों में कटौती करके राहत प्रदान कर सकती है। उन्होंने कहा कि प्रति लीटर पेट्रोल पर केंद्र द्वारा लगाये गये कर 70 रूपये तक होते हैं और यह राशि विभिन्न तरीकों से राज्यों को दे दी जाती है तथा राज्य द्वारा लगाया गया शुल्क 27 रूपये तक होता है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ राज्य सरकार जो शुल्क लगाती है, उसे वह घटा सकती है और आम आदमी को राहत दे सकती है।’’

इसे भी पढ़ें: मार्च में फिर कोरोना के मामलों में वृद्धि, भारत के छ राज्यों में पैर पसार रहा वायरस

जब उनसे प्रदेश कांग्रेस प्रमुख नाना पटोले द्वारा ईंधन के बढ़ते दाम के विरूद्ध साईकिल रैली निकाले जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि शायद वह ‘‘ईंधन पर कर कटौती का श्रेय लेने का प्रयास कर रहे हों क्योंकि करों की कटौती की चर्चा चल रही है।’’ भाजपा नेता ने कहा कि उनकी पार्टी एमवीए सरकार द्वारा बड़े पैमाने पर काटे जा रहे बिजली कनेक्शन के विरूद्ध आवाज उठाएगी क्योंकि इससे लोगों खासकर किसानों को बड़ी परेशान हो रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मार्च में फिर कोरोना के मामलों में वृद्धि, भारत के छ राज्यों में पैर पसार रहा वायरस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 1, 2021   16:15
  • Like
मार्च में फिर कोरोना के मामलों में वृद्धि, भारत के छ राज्यों में पैर पसार रहा वायरस

महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि हुई है और पिछले 24 घंटे में सामने आए 15,510 नए मामलों में 87.25 प्रतिशत इन्हीं राज्यों से हैं।

नयी दिल्ली। महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि हुई है और पिछले 24 घंटे में सामने आए 15,510 नए मामलों में 87.25 प्रतिशत इन्हीं राज्यों से हैं। यह जानकारी सोमवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी। मंत्रालय ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों की कुल संख्या बढ़ कर 1,68,627 पहुंच गई है, जो संक्रमण के कुल मामलों का का 1.52 फीसदी है। मंत्रालय ने बताया कि देश में संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों की कुल संख्या का 84 फीसदी पांच राज्यों में है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण का दूसरा चरण सोमवार से हुआ शुरू

भारत में इलाजरत मरीजों में 46.39 फीसदी मरीज महाराष्ट्र में है, इसके बाद केरल का स्थान है, जहां 29.49 फीसदी लोग संक्रमण का इलाज करा रहे हैं। मंत्रालय ने बताया, ‘‘15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एक हजार से अधिक इलाजरत मरीज हैं। केरल और महाराष्ट्र दो ऐसे राज्य हैं जहां कोविड-19 के इलाजरत मरीजों की संख्या 10 हजार से अधिक है, जबकि शेष 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में इलाजरत मरीजों की संख्या एक हजार से दस हजार के बीच है।’’

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस महामारी: कश्मीर में करीब एक साल के बाद स्कूल खुले

मंत्रालय ने बताया कि ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका और ब्राजील जैसे सार्स-कोव-2 के मामलों की संख्या देश में 213 तक हो गई है। पिछले 24 घंटे में 15,510 नए मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र में सर्वाधिक 8293 मामले, जबकि केरल में 3254 और पंजाब में 579 नए मामले सामने आए हैं। केंद्र उन राज्यों के लगातार संपर्क में है, जहां संक्रमण के इलाजरत रोगियों की संख्या ज्यादा है और जहां संक्रमण के नए मामले बढ़ रहे हैं। इसने कहा, ‘‘आठ राज्यों में रोजाना नए मामलों की संख्या बढ़ रही है।’’ अभी तक 2,92,312 सत्रों के माध्यम से लाभार्थियों को टीके के 1,43,01,266 खुराक दिए जा चुके हैं। इनमें पहली खुराक और दूसरी खुराक भी शामिल है।

मंत्रालय ने बताया, ‘‘कोविड-19 टीकाकरण का अगला चरण आज से उन लोगों के लिए शुरू हुआ है जिनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है और ऐसे लोगों के लिए भी शुरू हुआ है, जिनकी उम्र 45 वर्ष से अधिक है लेकिन वे दूसरी अन्य गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं।’’ मंत्रालय ने बताया कि नए ठीक हुए मामलों में 85.07 फीसदी छह राज्यों में हैं। इसके अलावा पिछले 24 घंटे में 106 लोगों की मौत हुई है। पिछले 24 घंटे में 20 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कोरोना वायरस से किसी की मौत नहीं हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मुंबई में बिजली सप्लाई ठप्प होने के पीछे चीन का हाथ ! गृह मंत्री ने साइबर विभाग से मांगी रिपोर्ट

  •  अनुराग गुप्ता
  •  मार्च 1, 2021   16:14
  • Like
मुंबई में बिजली सप्लाई ठप्प होने के पीछे चीन का हाथ ! गृह मंत्री ने साइबर विभाग से मांगी रिपोर्ट

पिछले साल 12 अक्टूबर की सुबह अचानक से मुंबई की बिजली सप्लाई बंद हो गई थी। भागती-दौड़ती मुंबई अचानक से ठहर गई। यह वो दौर था जब मुंबई कोरोना वायरस महामारी की मार झेल रहा था और बिजली की सप्लाई बंद होने की वजह से कोरोना मरीजों को तकलीफ झेलनी पड़ी थी।

मुंबई। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बिजली ठप मामले को लेकर सामने आई एक मीडिया रिपोर्ट पर संज्ञान लिया है। दरअसल, मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मुंबई में अचानक से बिजली ठप्प होने के पीछे चीनी साइबर सेल का हाथ था। इस मामले को लेकर गृह मंत्री ने साइबर विभाग से रिपोर्ट मांगी है। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के हिंगोली में कोरोना के मद्देनजर एक से सात मार्च तक कर्फ्यू, स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे 

बता दें कि पिछले साल 12 अक्टूबर की सुबह अचानक से मुंबई की बिजली सप्लाई बंद हो गई थी। भागती-दौड़ती मुंबई अचानक से ठहर गई। यह वो दौर था जब मुंबई कोरोना वायरस महामारी की मार झेल रहा था और बिजली की सप्लाई बंद होने की वजह से कोरोना मरीजों को तकलीफ झेलनी पड़ी थी। अस्पतालों के वेंटिलेटर्स काम करना बंद हो गए थे हालांकि 2 घंटे बाद सप्लाई चालू हुई।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्वी लद्दाख इलाके में भारत-चीन के बीच जारी गतिरोध की वजह से चीनी हैकर्स भारत को ब्लैकआउट करने की फिराक में थे। अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स में एक शोध के हवाले से दावा किया गया कि गलवान घाटी झड़प के बाद मुंबई की बिजली सप्लाई ठप्प होने में चीन का हाथ था। 

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन में महाराष्ट्र के 96 फीसदी लोगों की आमदनी में आई गिरावट: सर्वेक्षण 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक महाराष्ट्र सरकार ने साइबर विभाग से बिजली ठप्प मामले में रिपोर्ट मांगी है। बताया जा रहा है कि तीन लोगों की समिति इस संबंध में जांच कर रही है और उसकी रिपोर्ट जल्द ही मंत्रालय को सौंपी जाएगी। महाराष्ट्र के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने टीवी-9 भारतवर्ष से बातचीत में बताया कि मुंबई में बिजली ठप्प होने के पीछे उन्हें छेड़छाड़ की आशंका थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept