2 साल से नहीं भर पाया बच्चों की फीस,डिप्रेशन के चलते मौत के घाट उतर गया पूरा परिवार

2 साल से नहीं भर पाया बच्चों की फीस,डिप्रेशन के चलते मौत के घाट उतर गया पूरा परिवार

बरामद सुसाइड नोट के मुताबिक जून महीने में मृतक की नौकरी चली गई थी। जिसके चलते 2 सालों से परिवार बच्चों की फीस नहीं पा रहा था। बच्चे पढ़ाई में काफी अच्छे थे और नंबर भी अच्छे लाते थे। लेकिन अच्छे नंबर से पेट नहीं भरने की बात लिखी गई है।

भोपाल। राजधानी भोपाल में परिवार में आर्थिक तंगी से आत्महत्या करने वाले मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने एक सुसाइड नोट बरामद किया है। यह सुसाइड नोट परिवार ने खुदकुशी से पहले लिखा था।

इसे भी पढ़ें:बेरोजगारी बनी मौत का कारण, एक ही परिवार के 2 लोगों की हुई मौत तो वहीं 2 लोगों का चल रहा है इलाज 

आपको बता दें कि बरामद सुसाइड नोट के मुताबिक जून महीने में मृतक की नौकरी चली गई थी। जिसके चलते 2 सालों से परिवार बच्चों की फीस नहीं पा रहा था। बच्चे पढ़ाई में काफी अच्छे थे और नंबर भी अच्छे लाते थे। लेकिन अच्छे नंबर से पेट नहीं भरने की बात लिखी गई है। सुसाइड नोट में लिखा है कि आर्थिक तंगी से परेशान होकर सुसाइड कर रहे हैं। जीवन यापन करना पाना मुश्किल हो गया है। हमारी मौत का जिम्मेदार कोई और नहीं है।

वहीं आर्थिक तंगी के चलते परिवार ने आत्मघाती कदम उठाया। जिसमें पिता और बेटे की मौत हो गई है। बेटे चिराग की उम्र 16 साल थी औरकक्षा 11वीं का छात्र था। साथ ही घटना में मां बेटी का हमीदिया अस्पताल में इजाल जारी है। बेटी की हालत नाजुक बताई जा रही है। बेटी 14 साल की बताई जा रही है जो कि कक्षा 8वीं में पढ़ रही है।

इसे भी पढ़ें:होशंगाबाद में नोटरी अधिवक्ता ने की खुदखुशी,कोर्ट में खड़े होकर पिस्टल से मारी खुद को गोली 

जानकारी के मुताबिक मृतक रवि ने पहले अपने बेटे और बेटी के गले को ब्लेड से काट दिया और फिर उसके बाद पति-पत्नी ने जहर पी लिया। इस घटना में बेटे और पति की मौत हो गई है।

यह मामला मिसरोद थाना क्षेत्र के सहारा स्टेट का है। यहां एक ही परिवार के 4 लोगों ने आत्मघाती कदम उठा लिया। मृतक रवि ठाकर  पेशे से सिविल इंजीनियर था। जो पिछले 20 सालों से सिविल इंजीनियरिंग की लाइन में काम कर रहा था। जिनकी लॉकडाउन में नौकरी चली गई थी। पिछले पांच से छह महीनों से परिवार डिप्रेशन से जूझ रहा था।

इसे भी पढ़ें:प्रदर्शन में भैंस का इस्तेमाल करना कांग्रेस को पड़ा भारी, पशु क्रूरता का मामला हुआ दर्ज 

इस मामले में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का बयान भी सामने आया है। वीडी शर्मा ने कहा कि इस तरह का जो भी मामला सामने आया है उसकी शासन-प्रशासन पूरी जांच कर रहा होगा। उन्होंने कहा कि गंभीरता से जांच की जा रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।