CM येदियुरप्पा ने दी ईद की बधाई, प्रशासन की मदद करने के लिए मुस्लिम समुदाय का किया धन्यवाद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   12:03
CM येदियुरप्पा ने दी ईद की बधाई, प्रशासन की मदद करने के लिए मुस्लिम समुदाय का किया धन्यवाद

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कहा, ‘‘ मुझे उम्मीद है कि लोग इसी तरह का रवैया ईद-उल-फितर का उत्सव मनाने के दौरान भी करेंगे। मैं कोविड-19 के खिलाफ जंग में सहयोग के लिए आप सभी का शुक्रिया अदा करता हूं।’

बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने सोमवार को ईद-उल-फितर के मौके पर मुस्लिम समुदाय को बधाई दी। कोरोना वायरस महामारी की वजह से ईद का उत्सव बेहद सादे तरीके से मनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने अपने संदेश में कहा, ‘‘ ईद-उल-फितर की बधाई। शांति और मेल-मिलाप का यह त्योहार जिंदगी में खुशियां लेकर आए।’’ कोविड-19 पर रोकथाम के मद्देनजर रमजान के पवित्र महीने में घर पर ही नमाज पढ़कर प्रशासन की मदद करने के लिए उन्होंने मुस्लिम समुदाय का शुक्रिया अदा किया। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक में क्वारंटाइन व दूसरे नियमों के साथ शुरू हुईं घरेलू विमान सेवाएं

उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे उम्मीद है कि लोग इसी तरह का रवैया ईद-उल-फितर का उत्सव मनाने के दौरान भी करेंगे। मैं कोविड-19 के खिलाफ जंग में सहयोग के लिए आप सभी का शुक्रिया अदा करता हूं।’’ ईद का उत्सव लोग सादे तरीके से मना रहे हैं। लोगों ने मस्जिद और ईदगाह में जाने के बदले घर पर ही विशेष नमाज पढ़ी और इस दौरान लोग ईद की बधाई देने के लिए घरों से बाहर निकलने से भी बचे। कर्नाटक सरकार ने 31 मई तक रविवार को कर्फ्यू के आदेश दिए हैं जिसके बाद कर्नाटक के बड़े बाजार बंद रहे। लोग खरीददारी करने रविवार को बाहर नहीं जा सके। बेंगलुरु के सिटी मार्केट में स्थित जामा मस्जिद के मौलाना मसूद इमरान ने मुस्लिम समुदाय से अपने घरों में ही नमाज पढ़ने और अपने प्रियजनों की याद में संवेदना प्रकट करने के लिए कब्रिस्तान जाने से बचने के लिए कहा है। कर्नाटक में कहीं भी एक जगह जमा होकर नमाज की इजाजत नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।